राज्यसभा चुनाव: राजस्थान में क्राॅस वोटिंग की आशंका से डरी कांग्रेस, सभी विधायकों को जयपुर आने का फरमान; जानिए कांग्रेस का 'प्लान'


राजस्थान की 4 राज्यसभा सीटों के लिए कांग्रेस ने नामों का ऐलान कर दिया है। कांग्रेस ने इस बार रणदीप सुरजेवाला, मुकुल वासनिक और प्रमोद तिवारी को उम्मीदवार बनाया है, लेकिन स्थानीय उम्मीदवार नहीं बनाए जाने से विधायकों की नाराजगी झेलनी पड़ रही है। निर्दलीय विधायक सयम लोढ़ा ने तो खुलकर नाराजगी जाहिर भी कर दी है। ऐसे में कांग्रेस ने क्राॅस वोटिंग की आशंका में मद्देनजर पार्टी के सभी विधायकों और निर्दलीय विधायकों की बाडे़बंदी की तैयारी कर ली है। सभी विधायकों को आज शाम चार बजे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आवास पर बुलाया है। मुख्यमंत्री आवास पर तीनों प्रत्याशी भी मौजूद रहेंगे। सभी विधायकों से मुलाकात करेंगे।

तीनों प्रत्याशी कल नामांकन पत्र दाखिल करेंगे

तीनों प्रत्याशी कल 31 जनवरी को नामांकन पत्र दाखिल करेंगे। राज्यसभा के लिए 10 जून को मतदान होना है। कांग्रेस के आदिवासी विधायक किसी आदिवासी को राज्यसभा का उम्मीदवार बनाए जाने की मांग कर रहे थे। कांग्रेस की 2 सीटों पर जीत तय है, लेकिन तीसरी सीट के लिए पार्टी को 123 विधायकों की आवश्यकता पड़ेगी।  राजस्थान विधानसभा में संख्या बल कांग्रेस के पक्ष में है। कांग्रेस के पास 108 विधायक, भाजपा के पास 71, निर्दलीय 13, आरएलपी 3, बीटीपी 2, माकपा 2 और आरएलडी के पास एक विधायक है। कांग्रेस को सभी 13 निर्दलीय विधायकों ने समर्थन का ऐलान किया है। माकपा के 2 विधायकों का भी कांग्रेस के समर्थन मिल सकता है। ऐसे संकेत पार्टी के नेता प्रकाश करात ने हाल में दिए थे। आरएलडी के एक विधायक का समर्थन भी कांग्रेस को मिलेगा। संख्याबल के हिसाब से कांग्रेस के 3 सीट जीतने के आसार है, लेकिन जिस तरह पार्टी ने बाहरी उम्मीदवारों पर दांव खेला है। उससे क्राॅस वोटिंग की संभावना बढ़ गई है। बीजेपी ने दो प्रत्याशी उतारने का ऐलान किया है। बीजेपी ने एक नाम का ऐलान भी कर दिया है। जबकि दूसरे नाम का ऐलान नहीं किया है। बीजेपी नेताओं का दावा है कि कांग्रेस के विधायक संपर्क में है। ऐसे में सीएम अशोक गहलोत के सामने सबसे बड़ी चुनौती पार्टी के विधायको को एकजुट करने की रहेगी। 

संबंधित खबरें

RS चुनाव: गांधी परिवार ने वफादारों पर लगाया दांव; इन दिग्गजों से बनाई दूरी

Rajyasabha Election 2022: राजस्थान के नेता को प्रत्याशी क्यों नहीं बनाया? CM गहलोत के राजनीतिक सलाहकार ने से पूछे सवाल

राजस्थान के नेता, प्रत्याशी क्यों नहीं? CM गहलोत के सलाहकार ने पूछा

दिग्गजों की 'तपस्या बेकार', राज्यसभा को लेकर कांग्रेस में क्यों मच गई रार

दिग्गजों की ‘तपस्या बेकार’, राज्यसभा सीटों पर कांग्रेस में क्यों रार

तपस्या में कमी रह गई, कांग्रेस से राज्यसभा का टिकट न मिलने पर बोले पवन खेड़ा; नगमा भी नाराज

तपस्या में कमी रह गई, कांग्रेस से RS का टिकट न मिलने पर बोले पवन खेड़ा

बीजेपी को निर्दलीय विधायकों से आस 

कांग्रेस के पास 2 सीटों पर जीत के लिए बहुमत है लेकिन तीसरी सीट पर जीत के लिए उसे निर्दलीय विधायकों का सहारा लेना पड़ेगा। ऐसे में बीजेपी भी 2 सीटों पर प्रत्याशी खड़ा कर इस सियासी रंग को रोचक बनाना चाहती है। चुनाव आयोग की ओर से जारी चुनावी कार्यक्रम में  31 मई तक इन सीटों पर चुनाव के लिए नामांकन होगा। एक जून को प्राप्त होने वाले नामांकन की स्क्रूटनी और 3 जून को नामांकन वापस लेने की अंतिम तारीख होगी। इसके बाद 10 जून को मतदान होगा। उसके बाद नतीजे जारी कर दिए जाएंगे। उल्लेखनीय है कि राजस्थान की 4 राज्यसभा सीटों के लिए 10 जून को मतदान होना है। राजस्थान से ओमप्रकाश माथुर, केजे अल्फोंस, रामकुमार वर्मा और हर्षवर्धन सिंह डूंगरपुर का कार्यकाल पूरा हो गया है। ये चारों सीटें भाजपा के पास थी। इनका कार्यकाल 4 जुलाई तक रहेगा। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.