अग्निपथ स्कीम: राजस्थान कांग्रेस का 27 जून को प्रदेश व्यापी धरना-प्रदर्शन, पीसीसी चीफ डोटासरा बोले- कांग्रेस युवाओं के साथ


अग्निपथ स्कीम के विरोध में राजस्थान कांग्रेस 27 जून को प्रदेश व्यापी प्रदर्शन करेगी। राजस्थान कांग्रेस कमेटी के प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने यह जानकारी दी। राजधानी जयपुर में मीडिया से बात करते हुए कहा कि 27 जून को सभी विधायक और कांग्रेस कमेटी के नेता युवाओं के साथ उनकी आवाज बनकर शांतिपूर्ण धरना-प्रदर्शन करेंगे। राज्य की 200 विधानसभा क्षेत्रों में शांतिपूर्ण तरीके से धरना-प्रदर्शन किया जाएगा। डोटासरा ने कहा कि हमारी मांग पीएम मोदी और देश के गृहमंत्री तक जाए। इसलिए प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में प्रदर्शन किया जाएगा।

मोदी सरकार ने युवाओं को धोखा दिया 

पीसीसी चीफ ने कहा कि अग्निपथ स्कीम लाकर मोदी सरकार ने गलत निर्णय लिया है। युवाओं ने दो बार मोदी सरकार बनाने में अहम योगदान दिया था। मोदी सरकार आज युवाओं को छलने का काम कर रही है। युवाओं की मांगों को अनसुना किया जा रहा है। सेनाओं को कमजोर करने का काम किया जा रहा है। मोदी सरकार स्किल युवा बेरोजगार कैसे मिले। इसकी तैयारी कर रही है। सेना में संविदा पर भर्ती देशहित में नहीं है। चार साल युवा बेरोजगार हो जाएगा। काम की कोई गांरटी नहीं होगी। 

डोटासरा बोले- कांग्रेस युवाओं के साथ 

पीसीसी चीफ डोटासरा ने कहा कि कांग्रेस सोनिया गांधी और राहुल गांधी के साथ खड़ी है। हमारे दोनों नेताओं के नेतृत्व में पार्टी अग्निपथ योजना के खिलाफ खड़ी है। राहुल गांधी के संदेश पर युवाओं को न्याय दिलाने के लिए 27 जून को शांतिपूर्ण राज्य स्तरीय विरोध एवं धरना प्रदर्शन करेगी। पार्टी के जिला अध्यक्षों को धरना-प्रदर्शन करने की तैयारी करने के निर्देश दिए गए है। डोटासरा ने कहा कि देश का युवा अग्निपथ स्कीम को स्वीकार नहीं कर रहा है। योजना को जबनर युवाओं पर थोपा जा रहा है। इसका विरोध किया जाएगा। 

योजना के विरोध में राजस्थान में मचा था बवाल

उल्लेखनीय है कि अग्निपथ स्कीम के विरोध में राजस्थान खासा बवाल मचा था। आक्रोशित युवाओं एक दर्जन जिलों में विरोध-प्रदर्शन किए थे। हरियाणा से सटे अलवर जिले के बहरोड़ में सैकड़ों की संख्या में आर्मी की तैयारी कर रहे युवाओं ने जयपुर-दिल्ली नेशनल हाईवे जाम कर दिया था। भरतपुर जिले में भी रेलवे ट्रेक बाधित कर दिया गया था। इस दौरान पत्थरबाजी भी हुई। विरोध के चलते यहां तैनात पुलिस से भी प्रदर्शनकारी भिड़ गए थे। युवाओं को बढ़ते विरोध के चलते राजधानी जयपुर समेत 
धौलपुर और अलवर में धारा 144 लगा दी गई थी। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.