उपेन यादव ने अपनी जान को बताया खतरा, बड़े नेताओं पर लगाया आरोप; बताई ये वजह


राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष उपेन यादव ने कहा कि साजिशों का दौर शुरू हो गया है। कई बड़े नेता मेरे सोशल मीडिया को खत्म कर देना चाहते हैं। किसी भी मामले में मुझे फंसा कर हमेशा के लिए जेल में डालकर मेरा कैरियर खत्म करना चाहते हैं। क्या युवा बेरोजगारों की आवाज उठाना गुनाह है। उपेन यादव ने ट्वीट कर लिखा- अब कैरियर के साथ, मुझे मेरी जान का भी खतरा। उल्लेखनीय है कि उपेन यादव हाल में जमानत पर रिहा हुए है। इसके बाद से ही उपेन यादव को फर्जी मुकदमों में फंसाने की धमकी मिल रही है। उपेन यादव का कहना है कि पेपर माफियाओं के साथ-साथ सरकार के बड़े नेता भी मेरे पीछे पड़ गए है। भविष्य में मेरे साथ अनहोनी हो सकती है।

उपेन यादव बोले- हमेशा के लिए जयपुर छोड़ देंगे

उपेन यादव ने कहा कि गहलोत सरकार उनकी मांगों को पूरा कर दें। वह हमेशा के लिए जयपुर छोड़ देंगे। उन्होंने कहा कि राजनीति में आने का उनका कोई इरादा नहीं है। वह कभी चुनाव नहीं लड़ेंगे। गहलोत सरकार ने पुराने मुकदमों में न्यायालय में चालान पेश करना शुरू कर दिया है। मानसरोवर थाने में दर्ज मुकदमें का चालान पेश किया है। जमानत पर रिहा होने के बाद उपेन यादव लगातार गहलोत सरकार पर निशाना साध रहे हैं। उल्लेखनीय है कि प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन करने पर हाल में  उपेन यादव को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। करीब 8 दिन जेल में रहने के बाद उपेन यादव जमानत पर रिहा हुए है। 

गहलोत सरकार पर वादखिलाफी का आरोप 

उपेन यादव का कहना है कि सरकार बदले की भावना से काम कर रही है। गहलोत सरकार युवाओं के साथ वादखिलाफी कर रही है। हम हमारी मांगों के लिए शांतिपूर्ण तरीके से समाधान चाहते हैं। गहलोत सरकार हठधर्मिता पर अड़ी हुई है। उपेन यादव राज्य सरकार से प्रमुख मांग है कि कि बजट में 6 हजार पदों पर टेक्निकल हेल्पर भर्ती की घोषणा को पूरा किया जाए। पंचायती राज जेईएन भर्ती के 1500 पदों पर भर्ती की घोषणा तीन साल बाद भी जमीनी धरातल नहीं उतर पाई है। कॉमन एंट्रेंस टेस्ट में जूनियर अकाउंटेंट की भर्ती को शामिल करके इसको लेट किया जा रहा है। इसलिए इस भर्ती को सीईटी से बाहर रखा जाए। बाहरी राज्यों के परीक्षार्थियों का कोटा निर्धारण या खत्म किया जाए।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.