जोधपुर हिंसा: 21 घायलों के जख्मों पर 9 लाख 50 हजार रुपये के मुआवजे का मरहम, जानें मामला


राजस्थान के जोधपुर में 3 मई 2022 को फैली अशांति के दौरान घायल व्यक्तियों और संपत्तियों को हुए नुकसान के प्रभावितों को आर्थिक सहायता राशि देने के प्रस्ताव को स्वीकृति दी है। सीएम गहलोत ने ट्वीट कर लिखा- महात्मा गांधी चिकित्सालय एवं पुलिस की सूचना के अनुसार दुर्घटना में घायल हुए कुल 21 व्यक्तियों को 9 लाख 50  हजार रुपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी। साथ ही उपद्रव दौरान क्षतिग्रस्त संपत्ति और वाहनों के नुकसान होने से कुल 69 प्रभावितों 7 लाख 83 हजार रुपये की आर्थिक सहायता मिलेगी। गहलोत ने ट्वीट कर लिखा- इस निर्णय से पीड़ितों को आर्थिक संबल मिल सकेगा। उनको जीविकोपार्जन में आ रही समस्याओं में राहत मिल सकेगी। नियमों में शिथिलन करते हुए इन प्रस्तावों के अनुमोदन के लिए अतिरिक्त आवंटन को मंजूरी दी है। 

सीएम गहलोत का गृह जिला है जोधपुर

उल्लेखनीय है कि 3 मई को सीएम अशोक गहलोत के गृह जिले जोधपुर में ईद के एक दिन पहले रात को झंडा लगाने को लेकर तनाव उत्पन्न गया था। तनाव बाद में झगड़े का रूप ले लिया। देखते-देखते दो पक्षों में दंगे के हालात बन गए थे। हालात तनावपूर्ण देख पुलिस ने जिले में नेटबंदी साथ-साथ कर्फ्यू लगाया था। इस घटना के दौरान बड़ी संख्या में उपद्रवियों ने संपत्ति को नुकसान पहुंचाया था, साथ कुछ लोग घायल भी हुए थे। मामले में राजनीति रंग भी ले लिया था। करौली के बाद जोधपुर में हुआ हिंसा की जांच के लिए गहलोत सरकार ने एसआईटी का भी गठन किया था। 

रामनवमी के अवसर पर हुई थी हिंसा 

रामनवमी के अवसर पर करौली में हुई हिंसा के बाद राज्य के अन्य जिलों में भी हिंसा फैल गई थी। इसके बाद गहलोत सरकार ने कर्फ्यू लगा दिया था। राज्य की मुख्य विपक्षी पार्टी भाजपा ने हिंसा के लिए गहलोत सरकार को जिम्मेदार ठहराया था। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने प्रदेश की बिगड़ती कानून व्यवस्था पर सीएम गहलोत पर निशाना साधा था। सीएम गहलोत ने पलटवार करते हुए भाजपा और आरएसएस पर राज्य में हिंसा फैलाने का आरोप लगाया था। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.