बांदीकुई से अगवा छात्रा को बिहार से किया दस्तयाब, फ्री फायर गेम के जाल में फंसाकर किया था ब्लैकमेल; कतर से पहुंचा दौसा


राजस्थान के दौसा जिले की बांदीकुई पुलिस की स्पेशल टीम ने 13 वर्षीय बालिका को इंस्टाग्राम पर फ्री फायर गेम के जाल में फंसाकर ब्लैकमेल कर अगवा करने के आरोपी को दरभंगा बिहार से दस्तयाब कर लिया। आरोपी इजराइल नदाफ पुत्र दाऊ मदाफ (25) निवासी धनुजी जिला धनुषा प्रदेश नेपाल को गिरफ्तार किया है। आरोपी फिलहाल खाड़ी देश कतर स्थित इलेक्ट्रिक कंपनी में मजदूर है। आरोपी को गुरुवार को पॉक्सो कोर्ट में पेश कर 7 दिन की पुलिस रिमांड पर लिया गया है।

कुरकुरे लेने गई थी नाबालिग

दौसा एसपी राजकुमार गुप्ता ने बताया कि 19 जून को पास की दुकान में कुरकुरे लेने गई 13 साल की नाबालिग के अगवा होने की सूचना पर थानाधिकारी बांदीकुई नरेश चन्द्र शर्मा मय जाप्ता के मौके पर पहुंचे। परिजनों से घटना की जानकारी जुटा कर बच्ची की तलाश शुरू की गई। अपराध की गंभीरता को देखते हुए आईजी जयपुर रेंज उमेश चंद्र दत्ता के निर्देश पर नाबालिग की दस्तयाबी और अभियुक्त की गिरफ्तारी के लिए थानाधिकारी नरेश चंद्र शर्मा के नेतृत्व में विशेष टीम का गठन किया गया। 

मोबाइल गेम से आरोपो के सम्पर्क में आई नाबालिग

पुलिस को इनपुट मिले कि नाबालिग बालिका मोबाईल पर फ्री फायर गेम खेलती थी। जिस पर गेम से जुड़ी इंस्टाग्राम आईडी का तकनिकी विश्लेषण कर एक संदिग्ध इंस्टाग्राम आईडी को ट्रेक किया गया। तकनिकी मदद से खाड़ी देश कतर के मोबाईल नंबर से आईडी वेरिफाई होना ओर घटना के रोज आईडी इंडिया के इंटरनेट से जुड़ी होना पाया गया। गठित टीम घटना को चुनौती के रुप में लेते हुए आसूचना संकलन, सोशल मीडिया एवं तकनिकी संसाधनों की मदद ली गई। मार्ग रुट तैयार कर सीसीटीवी फुटेज खंगाले गये। जिसमे नाबालिग को एक अज्ञात युवक लेकर जाता दिखाई दिया।

ट्रेस ना हो इसके लिए दिल्ली से ली फर्जी सिम 

संदिग्ध मोबाईल नंबर को ट्रैक किया गया। सिम भी नई दिल्ली से फर्जी तरीके से खरीदना पाया गया। इस मोबाईल नंबर की इंटरनेट लोकेशन बिहार की आने पर टीम बिहार के लिए रवाना की गई। टीम द्वारा दरभंगा बिहार पहुँचकर नाबालिग बालिका व सीसीटीवी में कैद अभियुक्त को बस स्टैण्ड दरभंगा से दस्तयाब किया गया। अभियुक्त इजराईल नदाफ से घटना में प्रयुक्त मोबाईल, कतर से जारी मोबाईल सिम, नई दिल्ली से खरीदी गई फर्जी सिम, पासपोर्ट, नेपाल का नागारिकता प्रमाण पत्र बरामद किया गया है। घटना से एक दिन पहले ही फ्लाइट से दिल्ली आया और फिर बांदीकुई आया।आरोपी तकनीक में मास्टरमाईंड है। घटना से एक दिन पहले 18 जून को कतर से फलाईट से नई दिल्ली आया। वहाँ से अपहृता का पता इंस्टाग्राम से प्राप्त कर बांदीकुई आया। रात को रेलवे स्टेशन पर रहा ओर नाबालिग को ब्लैकमेल करता रहा।
अगले दिन बालिका को अगवा कर दिल्ली ले गया।

दिल्ली से बस द्वारा नेपाल जाते समय पुलिस ने पकड़ा

पुलिस के अनुसार नाबालिग का माईंड वॉश कर अपने साथ लेकर ट्रेन से नई दिल्ली चला गया। वहां से बस से लेकर नेपाल जा रहा था, लेकिन पुलिस टीम द्वारा तकनिकी संसाधनों की मदद से अभियुक्त का पीछा करते हुए दरभंगा बिहार बस स्टैण्ड से डिटेन कर नाबालिग अपहृता को दस्तयाब कर लिया गया। एसपी गुपता ने आमजन से अपील की है कि वर्तमान में हो रहे साईबर अपराध को ध्यान में रखते हुए अपने बच्चों को ऑनलाईन गेमिंग से दूर रखे। गलत तरीके में प्रयुक्त इंटरनेट प्रयोग से बचाए । बालकों को शैक्षणिक स्तर तक ही इंटरनेट का यूज करने देवे। बालकों की फ्रेंड सर्किल पर भी नजर रखी जाए।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.