राजस्थान में अग्निपथ स्कीम को लेकर विरोध-प्रदर्शन, जोधपुर में कलेक्ट्रेट को घेरा, सीकर में तोड़फोड़, जानें वजह


राजस्थान में सेना भर्ती में अग्निपथ स्कीम को लेकर विरोध प्रदर्शन तेज हो गया है। जयपुर के बाद जोधपुर, सीकर, अलवर और अजमेर मे विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है। जोधपुर में युवक जबरन कलेक्ट्रेट में घुस गए। सीकर जिले में युवाओं ने तोड़फोड़ की है। वहीं अजमेर में आरएलपी के विरोध प्रदर्शन की खबर है। अलवर जिले में युवक स्कीम के विरोध में सड़क पर उतर आए है। जोधपुर मे कलेक्ट्रेट परिसर पूरी तरह छावनी बन गया है। जोधपुर में युवक रातानाड़ा से होते हुए नई सड़क चौराहे पर पहुंचे। वहां पर युवकों ने नारेबाजी की। सीकर जिले में भी आरएलपी के कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन किया। मोदी सरकार के खिलाफ युवाओं ने नारेबाजी की। युवाओं का कहना है कि हम इसे बर्दास्त नहीं करेंगे। सीकर जिले में रैली में युवाओं ने हाथों में डंडे ले रखे थे। युवाओं का कहना था कि हम इसे बर्दाश्त नहीं करेंगे। मोदी सरकार युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही है। 

सीकर में निकाली आक्रोश रैली

अग्निपथ स्कीम के विरोध में युवाओं ने डाक बंगले से लेकर कलेक्ट्रेट तक रैली निकाली। जमकर नारेबाजी की। कलेक्ट्रेट के सामने ही डिवाडर पर लगे बैनर युवाओं ने तोड़ दिए। जिसकी वजह से पुलिस को हल्का बल प्रयोग करना पड़ा। उल्लेखनीय है कि राजस्थान में बड़ी संख्या में युवक शेखावाटी अंचल से सेना में भर्ती होते हैं। बड़ी संख्या में युवक ओवरएज हो चुके हैं। युवा आयु सीमा में छूट देने की मांग कर रहे हैं।  2 साल बाद भर्ती निकाली गई। वह भी सिर्फ 4 साल के लिए। युवाओं के साथ यह अन्याय है। 
उल्लेखनीय है कि हनुमान बेनीवाल की पार्टी आरएलपी ने आज विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया था। पार्टी आज जयपुर में बड़ा विरोध प्रदर्शन कर रही है। आरएलपी कार्यकर्ता सभी जिलों में विरोध प्रदर्शन कर ज्ञापन दे रहे हैं। बुधवार को राजधानी जयपुर और बाड़मेर जिले में युवकों ने विरोध प्रदर्शन किया था। जयपुर में कालवाड़ क्षेत्र में युवकों ने हाईवे जाम कर दिया था। जिसकी वजह से जयपुर-अजमेर पर रोड पर जाम की स्थिति बन गई थी। बाद पुलिस ने युवकों को खदेड़ दिया। करधनी थाना क्षेत्र में पुलिस ने 200 युवकों के खिलाफ केस दर्ज किया है। नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने कहा कि अग्निपथ स्कीम देशहित में नहीं है। मोदी सरकार को अपने फैसले पर फिर से विचार करना चाहिए। सेना का मनोबल गिरेगा। स्कीम देशहित में बिलकुल भी नहीं है। 

संबंधित खबरें

राजस्थान कांग्रेस का राजभवन घेराव, मंत्री और विधायक जुटे

राजस्थान में पांचवें दिन खत्म हुआ आरक्षण आंदोलन: कैबिनेट मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने दिलाया भरोसा, खुला नेशनल हाइवे

राजस्थान में खत्म हुआ आरक्षण आंदोलन, पांच दिन बाद खुला नेशनल हाइवे

कांग्रेस के नए संकट मोचक बने अशोक गहलोत, अध्यक्ष पद के लिए हो सकते हैं पसंद; समझिए कैसे

कांग्रेस के नए संकट मोचक बने गहलोत, अध्यक्ष पद के लिए हो सकते हैं पसंद

बेरोजगारों ने किया पीसीसी कार्यालय का घेराव, जानिए उपेन यादव की मांगें  

राजस्थान में बेरोजगारों ने किया पीसीसी कार्यालय का घेराव, जानें मांगे

आरएलपी ने की मोदी सरकार की आलोचना 

आरएलपी के संयोजक हनुमान बेनीवाल ने मोदी सरकार के इस निर्णय के तीखी आलोचना की है। बेनीवाल ने बताया कि ऐसे निर्णय सेना के साथ-साथ युवकों के हित में भी नहीं है। ज्ञापन में आरएलपी द्वारा युवाओं को सेना भर्ती में जाने के लिए दो वर्ष की आयु में शिथिलता देते हुए जल्द से जल्द पहले की भांति सेना भर्ती रैलियों का आयोजन प्रारंभ करने, राजस्थान सहित देश के कई सेना भर्ती केंद्रों द्वारा करवाई गई सेना भर्ती रैलियो की परीक्षा सहित लंबित प्रक्रियाओं को जल्द से जल्द पूरा करने और भारतीय वायु सेना की अधूरी भर्तियों को भी जल्द से जल्द पूरा करने की मांग भी की जाएगी। साथ में नौ सेना की भर्तीयों का आयोजन भी शुरू करने की मांग भी की जाएगी। आरएलपी संयोजक हनुमान बेनीवाल ने कहा कि केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मिलेंगे और निर्णय पर फिर से विचार करने का आग्रह करेंगे। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.