राजस्थान में राज्यसभा का रण: पार्टी एजेंट बने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, हर विधायक पर रखी है नजर


राजस्थान राज्यसभा चुनाव के रण का परिणाम तो शुक्रवार शाम तक आएगा लेकिन उससे पहले दोनों प्रमुख दलों ने जीत का दावा किया। वहीं राजनीतिक जादूगर कहे जाने वाले अशोक गहलोत ने सुबह 9 बजे से शुरू हुए मतदान के ठीक पहले विक्ट्री साइन दिखाते हुए एक बार फिर बड़ा मैसेज देने की कोशिश की। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्यसभा चुनाव को कितनी गंभीरता से लिया है, इसका अंदाजा इसबात से लगाया जा सकता है कि वह वोटिंग के दौरान पूरे समय खुद पार्टी एजेंट के तौर पर मौजूद रहने वाले हैं।

जानें, राजस्थान राज्यसभा चुनाव से जुड़ा हर एक अपडेट LIVE

 

इससे पहले कांग्रेस ने ना सिर्फ अपने विधायकों को पूरी तरह से साधते हुए उनकी मांगों को माना, बल्कि निर्दलीय विधायकों को भी अपने पक्ष में करने की पूरी कोशिश की। एक सप्ताह तक सभी विधायकों को उदयपुर के एक होटल में रखा गया। गुरुवार को वे विधायक उदयपुर से जयपुर आए और वहां लीला पैलेस में उन्होंने रात बिताई। शुक्रवार सुबह सभी विधायकों को वोटिंग के लिए विधानसभा ले जाया गया।

आमेर में विधायकों ने बिताई रात
जयपुर आने के बाद भी कांग्रेस ने विधायकों पर नजर बनाए रखी। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने खुद एक-एक विधायक से बात की और उन्हें आश्वस्त किया कि वह आगे भी उनकी बात सुनते रहेंगे। जयपुर के आमेर में विधायकों को रोका गया था और वहां मोबाइल इंटरनेट सेवा भी गुरुवार रात 9 बजे से शुक्रवार सुबह 9 बजे तक के लिए बंद करा दी गई थी।

संबंधित खबरें

वोटिंग से ठीक पहले सुभाष चंद्रा ने फेंका आरक्षण वाला पासा, बदलेगा खेल?

राज्यसभा चुनाव: महाराष्ट्र में बड़ा सस्पेंस खत्म, वोटिंग से पहले MVA के समर्थन में आई AIMIM

RS चुनाव: महाराष्ट्र में बड़ा सस्पेंस खत्म, MVA के समर्थन में आई AIMIM

राजस्थान राज्यसभा चुनाव: रात में 'खेल' होने का डर? कांग्रेस ने जहां विधायकों को रोका, उस इलाके में बंद कराया मोबाइल इंटरनेट

RS चुनाव: विधायकों के छिटकने का डर? आमेर में रातभर बंद रहा इंटरनेट

राज्यसभा चुनाव में आज मतदान, 4 राज्यों में होगा सियासी घमासान; पढ़ें सुबह की 5 बड़ी खबरें

RS चुनाव में आज मतदान, 4 राज्यों में सियासी घमासान; पढ़ें 5 बड़ी खबरें



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.