सचिन पायलट ने कहा- कांग्रेस लोकतंत्र की रक्षा के लिए धैर्य एवं सत्याग्रह के मार्ग पर चलेगी; बताई ये वजह


राजस्थान के पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने कहा कि केंद्र सरकार के अहंकार और द्वेष की राजनीति के विरुद्ध कांग्रेस पार्टी सोनिया गांधी के नेतृत्व में धैर्य एवं अहिंसा के साथ सत्याग्रह के मार्ग पर चल रही है। लोकतंत्र की रक्षा एवं युवाओं के भविष्य के लिए हमारा सत्याग्रह जारी रहेगा। दिल्ली में एआईसीसी कांग्रेस मुख्यालय में संबोधित करते हुए सचिन पायलट ने मोदी सरकार पर जांच एजेंसियों के दुरुपयोग का आरोप लगाया। पायलट ने कहा कि केंद्र सरकार सत्ता के मद में अहंकार हो गई है। लोकतंत्र में विपक्ष की आवाज को दबा रही है। दिल्ली पुलिस कांग्रेस कार्यकर्ताओं की पिटाई कर रही है। कार्यकर्ताओं को जबरन थानों में ले जाया जा रहै है। 

अग्निपथ योजना देशहित में नहीं 

सचिन पायलट ने कहा कि मोदी सरकार ने बिना किसी चर्चा के अग्निपथ योजना को युवाओं पर थोप दिया है। अग्निपथ योजना देशहित में नहीं है। इस योजना को तुंरत वापस लेना चाहिए। मोदी सरकार देश के युवाओं के साथ खिलवाड़ कर रही है। कांग्रेस पार्टी अग्निपथ योजना का विरोध करेगी। पीएम मोदी ने युवाओं को रोजगार देने का वादा किया  था, लेकिन मोदी सरकार युवाओं से रोजगार छिनने का काम कर रही है। भाजपा की कथनी और करनी में बहुत अंतर है। पायलट ने कहा कि कांग्रेस पार्टी एकजुट है। किसी भी कीमत में युवाओं पर अत्याचार सहन नहीं किया जाएगा। 

राहुल गांधी ने लिया पायलट का नाम 

कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने डायस के पास ही बैठे सचिन पायलट का नाम लेते हुए कहा कि देखो सचिन पायलट बैठे हुए हैं, सब बैठे हैं और मैं भी बैठा हुआ हूं। इस पर मंच के सामने और मंच पर बैठे हुए सभी लोग हंसने लगे। राहुल गांधी ने आगे कहा कि यहां सिद्धारमैया बैठे हैं। रणदीप सुरजेवाला भी बैठे हैं। सभी पेशेंस के साथ ही तो बैठे हैं। यह जो हमारी कांग्रेस पार्टी है। हमें थकने नहीं देती बल्कि पेशेंस रखना सिखाती है और से हमें स्ट्रेंथ मिलती है ताकि हम हर लड़ाई लड़ सकें।

राजस्थान के नेता दिल्ली में डटे

राहुल गांधी को ईडी का नोटिस दिए जाने के बाद 12 जून से अब तक राजस्थान के कई बड़े नेता दिल्ली में डटे हुए हैं। हालांकि, सीएम गहोलत दिल्ली से जयपुर के लिए रवाना हो गए गए है। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की वर्तमान स्थिति की कमान भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के ही हाथ है। सचिन पायलट को भले ही अग्रिम पंक्ति में बैठने और भाषण देने का मौका मिल रहा हो लेकिन उन्हें कोई खास अहमियत नहीं मिल रही है। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.