सुभाष चंद्रा के खिलाफ कांग्रेस पहुंची चुनाव आयोग, 'कांग्रेस के 8 MLA करेंगे क्राॅस वोटिंग' के बयान को बनाया आधार; जानिए पूरा मामला


राजस्थान में राज्यसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस और भाजपा में जुबानी जंग जारी है। कांग्रेस के 8 विधायक क्राॅस वोटिंग के बयान को आधार बनाकर कांग्रेस ने भाजपा समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार सुभाष चंद्रा के खिलाफ मुख्य चुनाव आयुक्त को पत्र लिखा है। पत्र में सुभाष चंद्रा पर गंभीर आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ एक्शन लेने की मांग की है। मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी ने बताया  कि सुभाष चंद्रा का इतिहास और बयान को आधार बनाकर शिकायत की गई है। सुभाष चंद्रा राज्यसभा चुनाव में काले धन का प्रयोग करेंगे।  विधायकों की खरीद-फरोख्त करेंगे। भारत निर्वाचन आयोग को सुभाष चंद्रा के खिलाफर कार्रवाई करनी चाहिए। 

सुभाष चंद्रा ने किया था क्राॅस वोटिंग करने का दावा 

उल्लेखनीय है कि भाजपा समर्थित प्रत्याशी सुभाष चंद्रा ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में दावा किया था कि 8 कांग्रेस के विधायक क्रॉस वोटिंग करेंगे। अब इस बयान पर कांग्रेस ने भारत के मुख्य चुनाव आयुक्त को खत लिखा है। जिसमें लिखा है कि आने वाले राज्यसभा चुनाव में काले धन और केंद्रीय एजेंसियों का बेजा इस्तेमाल किया जा सकता है। इस खत में संभावित हॉर्स ट्रेंडिंग को रोकने के लिए निर्दलीय प्रत्याशी सुभाष चंद्रा, भाजपा विधायक दल के नेता और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की मांग रखी गई है। उल्लेखनीय है इससे पहले कांग्रेस ने एसीबी में शिकायत दर्ज कराई थी। जबकि भाजपा ने कांग्रेस के खिलाफ ईडी में शिकायत दर्ज कराई थी। 

संबंधित खबरें

राज्यसभा चुनाव: BJP की बाड़ाबंदी तोड़ने में पुलिस का सहारा ले रहे CM गहलोत!

राजस्थान में कर्जमाफी घोटाला, किसानों के नाम आए करोड़ों रुपये हड़प गए बैंक अधिकारी; यूं खुली पोल

राजस्थान में कर्जमाफी घोटाला, किसानों के नाम आए करोड़ों रुपये हड़प गए अफसर

राजस्थान राज्यसभा चुनाव: कांग्रेस पर्यवेक्षक टीएस सिंह देव आज पहुंचेंगे उदयपुर, विधायकों की लेंगे मीटिंग

RS चुनाव: कांग्रेस पर्यवेक्षक टीएस सिंह देव आज पहुंचेंगे उदयपुर

राजस्थान काॅलेज में में जमकर चले लाठी-सरिए, छात्र नेताओं के समर्थक भिड़े; एक-दूसरे पर पत्थर फेंकने का वीडिया वायरल

राजस्थान काॅलेज में में जमकर चले लाठी-सरिए, वीडियो वायरल

कांग्रेस ने हरियाणा का दिया हवाला 

कांग्रेस ने अपने पत्र में हरियाणा से राज्यसभा के लिए चुने जाने के प्रकरण का जिक्र किया है। खत में लिखा है कि हरियाणा के राज्यसभा चुनाव में भी पेन बदलकर सुभाष चंद्रा राज्यसभा चुनाव में ऐसा प्रयास कर चुके हैं। जिसके चलते चुनाव आयोग को अपनी चुनाव प्रक्रिया तक बदलनी पड़ी। पत्र में केंद्रीय एजेंसियों के इस्तेमाल के जरिए भाजपा विधायकों की जबरन बाड़ेबंदी के भी आरोप लगाए गए है।  लेटर में हॉस ट्रेडिंग का आधार भी बताने की कोशिश की गई है।  लिखा है- राज्यसभा चुनाव में हॉर्स ट्रेडिंग, खरीद फरोख्त व धन-बल के दुरुपयोग की कलई आज पूरी तरह से खुल गई, जब सुभाष चंद्रा ने पत्रकार वार्ता कर साफ तौर से यह कहा कि उन्हें 4 और विधायकों का समर्थन आ चुका है। उसी पत्रकार वार्ता में उन्होंने कहा कि आठ लोग जो क्रॉस वोटिंग करेंगे, वो कांग्रेस के ही हैं। साफ है कि भाजपा व सुभाष चंद्रा सीधे-सीधे हॉर्स ट्रेडिंग कर रहे हैं। भाजपा समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार, सुभाष चंद्रा व अन्य भाजपा नेताओं के खिलाफ जरूरी संवैधानिक व कानूनी कार्रवाई कर अपराधिक मुकदमा दर्ज करना चाहिए।

सुभाष चंद्रा को जीत के लिए चाहिए 8 वोट

मौजूदा ​संख्या बल के हिसाब से BJP एक सीट पर जीत रही है। दूसरी सीट के लिए उसे 11 वोट चाहिए। भाजपा ने घनश्याम तिवाड़ी को राज्यसभा उम्मीदवार बनाया है। सुभाष चंद्रा भी मैदान में है। भाजपा के 71 विधायक हैं। एक सीट जीतने के लिए 41 विधायकों के वोट चाहिए। दो उम्मीदवारों के लिए 82 वोट चाहिए। भाजपा समर्थक दूसरे उम्मीदवार को जीतने के लिए 11 वोट कम पड़ रहे हैं। अगर हनुमान बेनीवाल की पार्टी आरएलपी के 3 विधायकों का सपोर्ट मिल गया है। कुल संख्या 74 हो जाती है। फिर दूसरे उम्मीदवार के लिए 8 वोटों की कमी रहती है। कांग्रेसी खेमे में सेंध लगाकर आठ वोट का प्रबंध करने पर ही भाजपा समर्थक दूसरा उम्मीदवार जीत सकता है। कांग्रेस के रणनीतिकार कांग्रेस के 108, 13 निर्दलीय, एक आरएलडी, दो सीपीएम और दो बीटीपी विधायकों को मिलाकर 126 विधायकों के समर्थन का दावा कर रहे हैं। इसलिए मुकाबला बहुत रोचक है। कांग्रेसी खेमे से भाजपा कुछ निर्दलीयों और नाराज कांग्रेस विधायकों में सेंध लगाने के प्रयास में है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.