हनुमान बेनीवाल महारैली में हुए नाराज, सांसद ने कहा- तुम्हारी इन हरकतों से ही पीएम मोदी अग्निपथ योजना लेकर आए है, जानें मामला


राजस्थान में अग्निपथ स्कीम को लेकर हुई आरएलपी की महारैली में युवकों के शोर-शराबे से नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल नाराज हो गए। हनुमान बेनीवाल ने कहा- तुम्हारी इन हरकतों से ही पीएम मोदी अग्निपथ योजना लेकर आए है। तुम्हारे लिए कौन आंदोलन करेगा। कौन जिंदगी खराब करेगा। पिछली बार पूरे प्रदेश में आरएलपी की 3 सीटें आई थी। दरअसल, महारैली में युवकों के शोर शराबे से सांसद हनुमान बेनीवाल नाराज हो गए। सोमवार को जोधपुर के रावण का चबूतरा मैदान में शाम करीब 6:15 बजे अग्निपथ योजना के विरोध में आयोजित महा रैली में सांसद हनुमान बेनीवाल ने अग्निपथ स्कीम लाने पर पीएम मोदी के साथ-साथ सीएम अशोक गहलोत पर जमकर निशाना साधा था। 

रात को 2 बजे सभा स्थल पहुंचे पुलिस कमिश्नर 

सोमवार को मामला ज्ञापन सौंपने को लेकर अटक गया था। ड्रामा लम्बा चला और 8 घंटे बाद पटाक्षेप तब हुआ जब सांसद बेनीवाल की बातें मान ली गई। ज्ञापन स्वीकार करने के लिए रात 2:00 बजे पुलिस कमिश्नर नवज्योति गोगोई को सभा स्थल मंच के पास पहुंचना पड़ा। जहां राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के तीनों विधायकों ने जिला प्रशासन को ज्ञापन दिया।  दरअसल, सोमवार शाम सवा छह बजे रैली समाप्त होते ही बेनीवाल ज्ञापन देकर निकल रहे थे। ज्ञापन के लिए एडीएम के साथ पुलिस कमिश्नर नव ज्योति गोगई मंच पर गए लेकिन ज्ञापन फोटो की फ्रेम में आने से इनकार कर दिया। ये सब सांसद को बर्दाश्त नहीं हुआ। उन्होंने ज्ञापन देने से मना कर सियासी दांव खेला।

हनुमान बेनीवाल जिद पर अड़े रहे 

सांसद हनुमान बेनीवाल ने कहा कि अधिकारियों की नासमझी के कारण समस्या हुई है। गहलोत के अधिकारी समझदार नहीं है। बेनीवाल ने मंगलवार को जोधपुर आ रहे सीएम के घेराव की घोषणा कर दी। अधिकारी बेनीवाल से मिलने गए उन्हें मनाने गए लेकिन जवाब एक ही था कि पुलिस कमिश्नर को बुलाओ। कुछ देर में सभा स्थल पर कार्यकर्ताओं के भोजन बनना शुरू कर दिया। जिसने अधिकारियों की बेचैनी बढ़ गई। इसके बाद फिर वार्ता का दौर चला। जिसके बाद रात 3 बजे कमिश्नर सभा स्थल पहुंचे। मंच की सीढ़ियों के पास ज्ञापन एडीएम एमएल नेहरा ने लिया। कमिश्नर खड़े रहे हनुमान बेनीवाल भी जिद पर अड़े रहे और मंच से नीचे नही उतरे।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.