International Yoga Day: CM ने योग को बताया जरूरी, राज्यपाल ने राजभवन तो सतीश पूनिया ने जयपुर में किया योगाभ्यास


ख़बर सुनें

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर राजस्थान में राज्यपाल, नेताओं, युवाओं, छात्रों समेत आम लोगों ने योगाभ्यास किया। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर  मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी योग की अहमियत और जरूरत का संदेश दिया। सीएम गहलोत ने सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा कि सदियों से योग हमारी संस्कृति एवं जीवन का अभिन्न अंग रहा है। यह शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए वरदान की तरह है, योग का अभ्यास अत्यंत महत्वपूर्ण है। आइये आज अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर योग को अपनी दिनचर्या में शामिल करने का संकल्प लें।

राज्यपाल ने किया योग
राज्यपाल कलराज मिश्र ने राजभवन में ही योग आसन और प्राणायाम किया। इस दौरान अधिकारियों और कर्मचारियों ने भी राज्यपाल के साथ योग किया। राज्यपाल मिश्र ने योग से जुड़े गतिशील और स्थिर आसन, अनुलोम-विलोम, कपालभाति, भ्रामरी आदि प्राणायाम भी किए। उन्होंने कहा कि योग से जीवन को स्वस्थ रखने के साथ ही मन को भी सदा सकारात्मक बनाए रखा जा सकता है। उन्होंने कहा कि योग भारतीय संस्कृति का हिस्सा है।

राज्यपाल मिश्र ने बाद में योग साधना की भारतीय परम्परा की चर्चा करते हुए कहा कि प्राचीनकाल से ही योग व्यक्तिगत, शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक कल्याण से जुड़ी हमारी जीवन शैली का अभिन्न अंग रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयासों से योग की भारतीय संस्कृति का अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रसार ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ की भारतीय परम्परा का प्रमाण है। योग करने से व्यक्तिगत चेतना का सार्वभौमिक चेतना से समन्वय होता है। इसी से जीवन में सभी स्तरों पर संतुलन बना रहता है। विश्व शांति और सद्भाव के लिए योग को महत्वपूर्ण बताते हुए उन्होंने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की सभी को शुभकामनाएं देते हुए इस महान परम्परा के वैश्विक संरक्षण और अधिकाधिक प्रसार के लिए समन्वित प्रयास किए जाने का आह्वान किया। 

सतीश पूनिया ने सांगानेर स्टेडियम में किया योग 
मंगलवार को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौक पर राजस्थान भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनिया ने जयपुर में पतंजलि योगपीठ व जयपुर नगर निगम ग्रेटर  द्वारा आयोजित सांगानेर स्टेडियम में योग दिवस कार्यक्रम में योग, ध्यान और प्राणायाम कियाl

विस्तार

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर राजस्थान में राज्यपाल, नेताओं, युवाओं, छात्रों समेत आम लोगों ने योगाभ्यास किया। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर  मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी योग की अहमियत और जरूरत का संदेश दिया। सीएम गहलोत ने सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा कि सदियों से योग हमारी संस्कृति एवं जीवन का अभिन्न अंग रहा है। यह शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए वरदान की तरह है, योग का अभ्यास अत्यंत महत्वपूर्ण है। आइये आज अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर योग को अपनी दिनचर्या में शामिल करने का संकल्प लें।

राज्यपाल ने किया योग

राज्यपाल कलराज मिश्र ने राजभवन में ही योग आसन और प्राणायाम किया। इस दौरान अधिकारियों और कर्मचारियों ने भी राज्यपाल के साथ योग किया। राज्यपाल मिश्र ने योग से जुड़े गतिशील और स्थिर आसन, अनुलोम-विलोम, कपालभाति, भ्रामरी आदि प्राणायाम भी किए। उन्होंने कहा कि योग से जीवन को स्वस्थ रखने के साथ ही मन को भी सदा सकारात्मक बनाए रखा जा सकता है। उन्होंने कहा कि योग भारतीय संस्कृति का हिस्सा है।

राज्यपाल मिश्र ने बाद में योग साधना की भारतीय परम्परा की चर्चा करते हुए कहा कि प्राचीनकाल से ही योग व्यक्तिगत, शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक कल्याण से जुड़ी हमारी जीवन शैली का अभिन्न अंग रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयासों से योग की भारतीय संस्कृति का अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रसार ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ की भारतीय परम्परा का प्रमाण है। योग करने से व्यक्तिगत चेतना का सार्वभौमिक चेतना से समन्वय होता है। इसी से जीवन में सभी स्तरों पर संतुलन बना रहता है। विश्व शांति और सद्भाव के लिए योग को महत्वपूर्ण बताते हुए उन्होंने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की सभी को शुभकामनाएं देते हुए इस महान परम्परा के वैश्विक संरक्षण और अधिकाधिक प्रसार के लिए समन्वित प्रयास किए जाने का आह्वान किया। 

सतीश पूनिया ने सांगानेर स्टेडियम में किया योग 

मंगलवार को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौक पर राजस्थान भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनिया ने जयपुर में पतंजलि योगपीठ व जयपुर नगर निगम ग्रेटर  द्वारा आयोजित सांगानेर स्टेडियम में योग दिवस कार्यक्रम में योग, ध्यान और प्राणायाम कियाl



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.