Rajasthan: आरक्षण आंदोलन तीसरे दिन भी जारी, मंत्री से वार्ता के लिए नहीं आया सैनी समाज का प्रतिनिधिमंडल


ख़बर सुनें

आरक्षण की मांग को लेकर सैनी समाज ने जयपुर आगरा हाइवे तीसरे दिन भी जाम रखा है। सैनी समाज के प्रतिनिधिमंडल को मंगलवार सुबह मंत्री विश्वेंद्र सिंह और संभागीय आयुक्त से वार्ता करनी थी। मंत्री विश्वेंद्र सिंह और संभागीय आयुक्त समेत तमाम अधिकारी संभागीय आयुक्त कार्यालय में सुबह 11 बजे तक प्रतिनिधिमंडल का इंतजार करते रहे लेकिन वार्ता के लिए कोई भरतपुर नहीं पहुंचा।

 

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार प्रतिनिधिमंडल के नहीं पहुंचने पर मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने कहा कि मुझे लगता है कि समाज में बात करने के लिए कोई नेता ही नहीं है। यदि कोई नेता है तो वार्ता के रास्ते खुले हैं। बात करने के लिए आएं। आंदोलन के 48 घंटे हो गए हैं। जनता परेशान हो रही है। सरकार ने अपनी तरफ से सारे प्रयास कर लिए हैं।

 

उन्होंने कहा कि पहले सैनी समाज ने मांग की थी कि मंत्री विश्वेंद्र सिंह अधिकृत नहीं हैं। अब राजस्थान सरकार ने मुझे और संभागीय आयुक्त को अधिकृत भी कर दिया है। आज सैनी समाज का प्रतिनिधि मंडल वार्ता के लिए आने वाला था। खुद संघर्ष समिति के संयोजक मुरारी लाल सैनी ने लिस्ट बनाकर भेजी। मुरारी लाल सैनी का कहना है कि मैंने इनको अधिकृत कर दिया है लेकिन मैं खुद वार्ता करने नहीं आऊंगा।

मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने कहा कि वार्ता के लिए सैनी समाज के सामने कैबिनेट मंत्री बैठा है, जोकि राजस्थान सरकार और मुख्यमंत्री को प्रतिनिधित्व कर रहा है। उसके बावजूद इनका इस तरह का एटीट्यूड रहेगा, तो उसका जिम्मेदार कौन रहेगा। मंत्री ने कहा कि हम अभी तक चुप बैठे हैं, लेकिन लकड़ी को ज्यादा मोड़ेंगे तो टूट जाएगी और हम वो स्टेज लाना नहीं चाहते।

मंत्री ने समाज से की अपील
मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने सैनी, कुशवाहा, शाक्य मौर्य सभी समाजों से विनम्र अपील करते हुए कहा कि आप भरतपुर आएं और पूरी मीडिया के सामने निडर होकर वार्ता करें। जिससे आम आदमी को राहत मिल सके।

बुधवार तक रहेगा बंद

वहीं भरतपुर के चार कस्बों नदबई, वैर, भुसावर और उच्चैन तहसीलों में 13 जून को इंटरनेट सेवा बंद की थी। इंटरनेट बंदी को अगले 24 घंटों के लिए बढ़ा दिया गया है। अब बुधवार सुबह 11 बजे तक इंटरनेट बंद रहेगा।

विस्तार

आरक्षण की मांग को लेकर सैनी समाज ने जयपुर आगरा हाइवे तीसरे दिन भी जाम रखा है। सैनी समाज के प्रतिनिधिमंडल को मंगलवार सुबह मंत्री विश्वेंद्र सिंह और संभागीय आयुक्त से वार्ता करनी थी। मंत्री विश्वेंद्र सिंह और संभागीय आयुक्त समेत तमाम अधिकारी संभागीय आयुक्त कार्यालय में सुबह 11 बजे तक प्रतिनिधिमंडल का इंतजार करते रहे लेकिन वार्ता के लिए कोई भरतपुर नहीं पहुंचा।

 

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार प्रतिनिधिमंडल के नहीं पहुंचने पर मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने कहा कि मुझे लगता है कि समाज में बात करने के लिए कोई नेता ही नहीं है। यदि कोई नेता है तो वार्ता के रास्ते खुले हैं। बात करने के लिए आएं। आंदोलन के 48 घंटे हो गए हैं। जनता परेशान हो रही है। सरकार ने अपनी तरफ से सारे प्रयास कर लिए हैं।

 

उन्होंने कहा कि पहले सैनी समाज ने मांग की थी कि मंत्री विश्वेंद्र सिंह अधिकृत नहीं हैं। अब राजस्थान सरकार ने मुझे और संभागीय आयुक्त को अधिकृत भी कर दिया है। आज सैनी समाज का प्रतिनिधि मंडल वार्ता के लिए आने वाला था। खुद संघर्ष समिति के संयोजक मुरारी लाल सैनी ने लिस्ट बनाकर भेजी। मुरारी लाल सैनी का कहना है कि मैंने इनको अधिकृत कर दिया है लेकिन मैं खुद वार्ता करने नहीं आऊंगा।


मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने कहा कि वार्ता के लिए सैनी समाज के सामने कैबिनेट मंत्री बैठा है, जोकि राजस्थान सरकार और मुख्यमंत्री को प्रतिनिधित्व कर रहा है। उसके बावजूद इनका इस तरह का एटीट्यूड रहेगा, तो उसका जिम्मेदार कौन रहेगा। मंत्री ने कहा कि हम अभी तक चुप बैठे हैं, लेकिन लकड़ी को ज्यादा मोड़ेंगे तो टूट जाएगी और हम वो स्टेज लाना नहीं चाहते।


मंत्री ने समाज से की अपील

मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने सैनी, कुशवाहा, शाक्य मौर्य सभी समाजों से विनम्र अपील करते हुए कहा कि आप भरतपुर आएं और पूरी मीडिया के सामने निडर होकर वार्ता करें। जिससे आम आदमी को राहत मिल सके।


बुधवार तक रहेगा बंद

वहीं भरतपुर के चार कस्बों नदबई, वैर, भुसावर और उच्चैन तहसीलों में 13 जून को इंटरनेट सेवा बंद की थी। इंटरनेट बंदी को अगले 24 घंटों के लिए बढ़ा दिया गया है। अब बुधवार सुबह 11 बजे तक इंटरनेट बंद रहेगा।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.