Rajasthan: चूरू में धरने पर बैठे किसान भड़के, पुलिस से झड़प, बीकानेर-दिल्ली हाईवे को किया जाम


न्यूूज डेस्क, अमर उजाला, चूरू
Published by: रोमा रागिनी
Updated Thu, 16 Jun 2022 07:55 AM IST

ख़बर सुनें

अखिल भारतीय किसान सभा के बैनर तले तारानगर में पिछले 99 दिन से धरना दे रहे किसान बुधवार को भड़क गए। जिसके बाद किसानों और पुलिस जवानों में झड़प हो गई। उग्र हुए किसानों ने टेंट उखाड़ दिए। इसके बाद उन्होंने बीकानेर-दिल्ली हाईवे जाम कर दिया। 

बता दें कि बीमा क्लेम और क्रॉप कटिंग सहित अपनी विभिन्न मांगों को लेकर किसान लंबे समय से धरना दे रहे हैं। महापड़ाव के तहत बुधवार को किसानों की कृषि उपज मंडी में विशाल जनसभा थी। उनकी प्रशासन के साथ मांगों को लेकर वार्ता भी हुई। वार्ता विफल हो जाने के बाद किसानों ने बुधवार शाम में नारे लगाते हुए जुलूस के रूप में कृषि उपज मंडी से रवाना होकर एसडीएम कार्यालय पहुंचे। इसी दौरान किसानों ने एसडीएम कार्यालय में जबरन घुसने का प्रयास किया लेकिन दरवाजे पर तैनात पुलिस और आरएसी के जवानों ने किसानों को एसडीएम कार्यालय के बाहर मुख्य दरवाजे के आगे ही रोक लिया।

इसके बाद किसानों ने एसडीएम कार्यालय में घुसने की पूरी कोशिश की लेकिन आरएसी जवानों ने उन्हें घुसने नहीं दिया। जिसके बाद आक्रोशित किसानों ने एसडीएम कार्यालय के दरवाजे के आगे लगे पुलिस बैरिकेड और तंबू को उखाड़ दिया। इस दौरान किसानों और पुलिस के बीच झड़प हो गई। 

बंद रहे सरकारी कार्यालय
किसान सभा के एडवोकेट निर्मल प्रजापत ने बताया कि जब तक सरकार किसानों को क्रॉप कटिंग रिपोर्ट नहीं देगी, तब तक उनका एसडीएम कार्यालय के आगे महापड़ाव जारी रहेगा। किसानों की ‘घेरा डालो डेरा डालो’ आंदोलन की चेतावनी के चलते प्रशासन ने बुधवार दोपहर बाद कस्बे के सभी सरकारी कार्यालयों को बंद करवा दिया। जिससे किसान सरकारी कार्यालय में घुसकर उन पर कब्जा न कर सकें।

विस्तार

अखिल भारतीय किसान सभा के बैनर तले तारानगर में पिछले 99 दिन से धरना दे रहे किसान बुधवार को भड़क गए। जिसके बाद किसानों और पुलिस जवानों में झड़प हो गई। उग्र हुए किसानों ने टेंट उखाड़ दिए। इसके बाद उन्होंने बीकानेर-दिल्ली हाईवे जाम कर दिया। 


बता दें कि बीमा क्लेम और क्रॉप कटिंग सहित अपनी विभिन्न मांगों को लेकर किसान लंबे समय से धरना दे रहे हैं। महापड़ाव के तहत बुधवार को किसानों की कृषि उपज मंडी में विशाल जनसभा थी। उनकी प्रशासन के साथ मांगों को लेकर वार्ता भी हुई। वार्ता विफल हो जाने के बाद किसानों ने बुधवार शाम में नारे लगाते हुए जुलूस के रूप में कृषि उपज मंडी से रवाना होकर एसडीएम कार्यालय पहुंचे। इसी दौरान किसानों ने एसडीएम कार्यालय में जबरन घुसने का प्रयास किया लेकिन दरवाजे पर तैनात पुलिस और आरएसी के जवानों ने किसानों को एसडीएम कार्यालय के बाहर मुख्य दरवाजे के आगे ही रोक लिया।


इसके बाद किसानों ने एसडीएम कार्यालय में घुसने की पूरी कोशिश की लेकिन आरएसी जवानों ने उन्हें घुसने नहीं दिया। जिसके बाद आक्रोशित किसानों ने एसडीएम कार्यालय के दरवाजे के आगे लगे पुलिस बैरिकेड और तंबू को उखाड़ दिया। इस दौरान किसानों और पुलिस के बीच झड़प हो गई। 


बंद रहे सरकारी कार्यालय

किसान सभा के एडवोकेट निर्मल प्रजापत ने बताया कि जब तक सरकार किसानों को क्रॉप कटिंग रिपोर्ट नहीं देगी, तब तक उनका एसडीएम कार्यालय के आगे महापड़ाव जारी रहेगा। किसानों की ‘घेरा डालो डेरा डालो’ आंदोलन की चेतावनी के चलते प्रशासन ने बुधवार दोपहर बाद कस्बे के सभी सरकारी कार्यालयों को बंद करवा दिया। जिससे किसान सरकारी कार्यालय में घुसकर उन पर कब्जा न कर सकें।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.