Rajasthan: पंच-पटेलों का तुगलकी फरमान, प्रेम विवाह करने पर युवक के परिवार का हुक्का-पानी किया बंद


न्यूूज डेस्क, अमर उजाला, अजमेर
Published by: रोमा रागिनी
Updated Sat, 25 Jun 2022 10:53 AM IST

ख़बर सुनें

अजमेर में खाप पंचायत ने प्रेम विवाह करने पर युवक और उसके परिवार को समाज से बहिष्कृत कर दिया। पंचायत ने परिवार का हुक्का पानी बंद करने का फैसला सुनाया है। यहां तक की युवक के परिवार से बात करने वालों को समाज से बेदखल करने की धमकी दी।

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार गगवाना निवासी आकाश मंडोलिया ने कोरोना काल में गांव की ही सजातीय युवती पूजा बाकोलिया से आर्य समाज में विवाह किया था। उनके प्रेम विवाह से रेगर समाज के पंच पटेल नाराज हो गए। पंच पटेल ने 21 जून रात नौ बजे गांव में पंचायत बुलाई। उन्होंने उसके परिवार को भी तत्काल पंचायत में बुलाया। युवक अपने भाई राकेश के साथ पंचायत में पहुंचा, जहां उसे और उसके परिवार को बहिष्कृत करने का फैसला सुनाते हुए समाज और गांव से हुक्का पानी बंद कर दिया।

 

युवक और उसके किसी भी परिजन से गांव के लोगों का किसी भी प्रकार का खाना और बेटी व्यवहार पर रोक लगाते हुए तमाम संबंध तोड़ने की हिदायत दी। पंचों ने समाज के लोगों को चेताया कि कोई भी उसके घर न तो आएगा न ही उनको अपने घर बुलाएगा। फैसले के खिलाफ जाने वाले को भी समाज से बहिष्कृत कर दिया जाएगा।  समाज के तुगलकी फैसले के खिलाफ पीड़ित ने पुलिस अधीक्षक विकास शर्मा के समक्ष फरियाद लगाई। पीड़ित युवक ने आरोपी पंच-पटेलों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की मांग की है।

विस्तार

अजमेर में खाप पंचायत ने प्रेम विवाह करने पर युवक और उसके परिवार को समाज से बहिष्कृत कर दिया। पंचायत ने परिवार का हुक्का पानी बंद करने का फैसला सुनाया है। यहां तक की युवक के परिवार से बात करने वालों को समाज से बेदखल करने की धमकी दी।


मीडिया रिपोर्टस के अनुसार गगवाना निवासी आकाश मंडोलिया ने कोरोना काल में गांव की ही सजातीय युवती पूजा बाकोलिया से आर्य समाज में विवाह किया था। उनके प्रेम विवाह से रेगर समाज के पंच पटेल नाराज हो गए। पंच पटेल ने 21 जून रात नौ बजे गांव में पंचायत बुलाई। उन्होंने उसके परिवार को भी तत्काल पंचायत में बुलाया। युवक अपने भाई राकेश के साथ पंचायत में पहुंचा, जहां उसे और उसके परिवार को बहिष्कृत करने का फैसला सुनाते हुए समाज और गांव से हुक्का पानी बंद कर दिया।

 

युवक और उसके किसी भी परिजन से गांव के लोगों का किसी भी प्रकार का खाना और बेटी व्यवहार पर रोक लगाते हुए तमाम संबंध तोड़ने की हिदायत दी। पंचों ने समाज के लोगों को चेताया कि कोई भी उसके घर न तो आएगा न ही उनको अपने घर बुलाएगा। फैसले के खिलाफ जाने वाले को भी समाज से बहिष्कृत कर दिया जाएगा।  समाज के तुगलकी फैसले के खिलाफ पीड़ित ने पुलिस अधीक्षक विकास शर्मा के समक्ष फरियाद लगाई। पीड़ित युवक ने आरोपी पंच-पटेलों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की मांग की है।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.