Rajasthan: बकरियां चराकर टॉप करने वाली रवीना से ठगी, खाते से निकाले 63 हजार, ऐसे जुटाई गई थी यह रकम    


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, अलवर
Published by: उदित दीक्षित
Updated Thu, 16 Jun 2022 06:07 PM IST

ख़बर सुनें

राजस्थान में बकरी चराकर 12वीं की परीक्षा में तीन ब्लॉक में टॉप करने वाली रवीना गुर्जर  एक बार फिर चर्चा हैं। साइबर ठगों ने मदद के नाम पर उनकी मां के खाते से 63 हजार रुपये निकाल लिए। ठगों ने यह राशि तीन बार में निकाली है। रवीना के टॉप कर चर्चा में आने के बाद लोगों ने जनसहयोग से 63 हजार रुपये जुटाए थे। मदद करने के नाम पर ठगों ने उनका पूरा अकाउंट खाली कर दिया। जानकारी लगने पर रवीना ने अलवर के नारायणपुर थाने में केस दर्ज कराया है।  

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार 13 जून को रवीना के पास 8303228268 इस नंबर से फोन आया। उसके फोन उठाते ही दूसरी तरफ से बात कर रहे युवक ने उससे कहा कि वह उसकी आर्थिक रूप से मदद करना चाहता है। इसके बाद आरोपी साइबर ठग ने रवीना से फोन पे पर यूपीआई पिन बनवाया।

आरोपी की बातों को सच मानकर रवीना ने उसे ओटीपी सहित अन्य जानकारी भी दे दी। कुछ देर बाद ही उसकी मां के खाते से रुपये निकाले जाने लगे। आरोपी ने अकाउंट से 25-25 हजार रुपये दो बार और फिर 13 हजार रुपये निकाल लिए। रवीना ने अकाउंट बैलेंस चेक किया तो उसमे एक भी रुपया नहीं था। इसके बाद उसने परिजनों को पूरी बात बताई और थाने पहुंचकर केस दर्ज कराया। 

17 साल की रवीना गुर्जर अलवर के नारायणपुर कस्बे के पास स्थित गढ़ी मामोड़ गांव की रहने वाली है। उसने गांव के ही सरकारी स्कूल से 12वीं की पढ़ाई की। 12 साल पहले सांप के डसने से पिता रमेश की मौत हो गई थी। वह अपने पीछे चार बच्चों और अपनी पत्नी को पीछे छोड़ गए। रवीना की मां हार्ट की मरीज हैं। हार्ट के दोनों वॉल्व खराब होने के कारण उनका ऑपरेशन भी हो चुका है। परिवार की मदद करने के लिए रवीना बकरियां भी चराया करती है। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा जारी 12वीं कला वर्ग के परिणाम में 93 प्रतिशत अंक प्राप्त किए थे। तीन ब्लॉक में टॉप करने के बाद रवीना की आर्थिक हालत की जानकारी लोगों के सामने आई तो लोगों ने जनसहयोग से उसकी मां के खाते में 63 हजार रुपये जमा कराए गए थे।  

विस्तार

राजस्थान में बकरी चराकर 12वीं की परीक्षा में तीन ब्लॉक में टॉप करने वाली रवीना गुर्जर  एक बार फिर चर्चा हैं। साइबर ठगों ने मदद के नाम पर उनकी मां के खाते से 63 हजार रुपये निकाल लिए। ठगों ने यह राशि तीन बार में निकाली है। रवीना के टॉप कर चर्चा में आने के बाद लोगों ने जनसहयोग से 63 हजार रुपये जुटाए थे। मदद करने के नाम पर ठगों ने उनका पूरा अकाउंट खाली कर दिया। जानकारी लगने पर रवीना ने अलवर के नारायणपुर थाने में केस दर्ज कराया है।  

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार 13 जून को रवीना के पास 8303228268 इस नंबर से फोन आया। उसके फोन उठाते ही दूसरी तरफ से बात कर रहे युवक ने उससे कहा कि वह उसकी आर्थिक रूप से मदद करना चाहता है। इसके बाद आरोपी साइबर ठग ने रवीना से फोन पे पर यूपीआई पिन बनवाया।

आरोपी की बातों को सच मानकर रवीना ने उसे ओटीपी सहित अन्य जानकारी भी दे दी। कुछ देर बाद ही उसकी मां के खाते से रुपये निकाले जाने लगे। आरोपी ने अकाउंट से 25-25 हजार रुपये दो बार और फिर 13 हजार रुपये निकाल लिए। रवीना ने अकाउंट बैलेंस चेक किया तो उसमे एक भी रुपया नहीं था। इसके बाद उसने परिजनों को पूरी बात बताई और थाने पहुंचकर केस दर्ज कराया। 

17 साल की रवीना गुर्जर अलवर के नारायणपुर कस्बे के पास स्थित गढ़ी मामोड़ गांव की रहने वाली है। उसने गांव के ही सरकारी स्कूल से 12वीं की पढ़ाई की। 12 साल पहले सांप के डसने से पिता रमेश की मौत हो गई थी। वह अपने पीछे चार बच्चों और अपनी पत्नी को पीछे छोड़ गए। रवीना की मां हार्ट की मरीज हैं। हार्ट के दोनों वॉल्व खराब होने के कारण उनका ऑपरेशन भी हो चुका है। परिवार की मदद करने के लिए रवीना बकरियां भी चराया करती है। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा जारी 12वीं कला वर्ग के परिणाम में 93 प्रतिशत अंक प्राप्त किए थे। तीन ब्लॉक में टॉप करने के बाद रवीना की आर्थिक हालत की जानकारी लोगों के सामने आई तो लोगों ने जनसहयोग से उसकी मां के खाते में 63 हजार रुपये जमा कराए गए थे।  



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.