Rajasthan: विनय मिश्रा के खिलाफ आरएलपी करेगी मानहानि का केस, आप प्रभारी ने पूछा-40 करोड़ मिले उससे लड़ोगे केस


ख़बर सुनें

आम आदमी पार्टी प्रदेश प्रभारी विनय मिश्रा ने राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी पर 40 करोड़ लेकर सुभाष चंद्रा को समर्थन देने का आरोप लगाया था। इस मामले को लेकर आरएलपी के तीन विधायक विनय मिश्रा के खिलाफ केस दर्ज कराने के लिए थाने पहुंच गए। विधायकों ने मिश्रा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के लिए शिकायत पत्र दिया है।

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार मुकदमा दर्ज कराने के लिए आरएलपी प्रदेश अध्यक्ष और भोपालगढ़ से विधायक पुखराज गर्ग, खींवसर विधायक नारायण बेनीवाल और मेड़ता विधायक इंदिरा देवी बावरी जालूपुरा थाना पहुंचे। उन्होंने विनय मिश्रा के खिलाफ अपराधिक धाराओं में मुकदमा दर्ज करने के लिए पत्र दिया। इस दौरान पुखराज गर्ग ने आरोप लगाया कि जिस प्रकार की टिप्पणी आरएलपी के खिलाफ विनय मिश्रा ने ट्विटर पर की है, उससे पार्टी कार्यकर्ता आहत है। इन टिप्पणियों में जो आरोप लगाए गए हैं, वह पूरी तरह निराधार है। ऐसे में पुलिस आरोप लगाने वाले मिश्रा के खिलाफ कार्रवाई करें। जालूपुरा थाना पुलिस एसएचओ अनिल जैमन के अनुसार पत्र में दी गई शिकायत को दिखवाया जा रहा है। 

हनुमान बेनीवाल ने एक ट्वीट कर जल्द ही मिश्रा के खिलाफ उच्च न्यायालय में मानहानि का मामला दर्ज करवाने की बात कही है। बेनीवाल के मानहानि के केस दर्ज करवाने की बात पर विनय मिश्रा ने पलटवार किया है। मिश्रा ने ट्वीट कर बेनीवाल से सवाल किया कि ये मुकदमा आखिर किस पैसे से लड़ा जाएगा। वो विधायक बेचकर जो 40 करोड़ मिले थे, उससे या इसके लिए फिर से दोबारा विधायक बेचा जाएगा।

गुंडों बदमाश की पार्टी है आरएलपी
इसके साथ विनय मिश्रा ने कहा कि आरएलपी के कार्यकर्ता मुझे राजस्थान में नहीं घुसने देने की धमकी दे रहे हैंं। जो मुझे इस तरह धमका सकते हैं, वे आम लोगों से कैसे पेश आते होंगे। ये गुंडे बदमाशों की पार्टी हो गई है। 

क्या है मामला
विनय मिश्रा ने आरोप लगाया था कि हनुमान बेनीवाल ने अपनी पार्टी के तीन विधायकों को एक न्यूज चैनल के मालिक को राज्यसभा में अपने तीन विधायकों का वोट डलवाने के लिए 40 करोड़ में बेच दिया है। उन्होंने कहा कि तीन एमएलए = 30 करोड़, 10 करोड़ अपना खर्च, पार्टी ने अपने विधायकों को राज्यसभा चुनाव में बेच कर, कुल 40 करोड़ रुपये झटके में उठा लिए। ये भी नहीं सोचा को किसान भाईयों पर क्या गुजर रही होगी?’ सोचिए राजस्थान की जनता गलती से अगर 30 विधायक दे देती तो आज ये पूरा राजस्थान ही बेच देते। 

विस्तार

आम आदमी पार्टी प्रदेश प्रभारी विनय मिश्रा ने राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी पर 40 करोड़ लेकर सुभाष चंद्रा को समर्थन देने का आरोप लगाया था। इस मामले को लेकर आरएलपी के तीन विधायक विनय मिश्रा के खिलाफ केस दर्ज कराने के लिए थाने पहुंच गए। विधायकों ने मिश्रा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के लिए शिकायत पत्र दिया है।


मीडिया रिपोर्टस के अनुसार मुकदमा दर्ज कराने के लिए आरएलपी प्रदेश अध्यक्ष और भोपालगढ़ से विधायक पुखराज गर्ग, खींवसर विधायक नारायण बेनीवाल और मेड़ता विधायक इंदिरा देवी बावरी जालूपुरा थाना पहुंचे। उन्होंने विनय मिश्रा के खिलाफ अपराधिक धाराओं में मुकदमा दर्ज करने के लिए पत्र दिया। इस दौरान पुखराज गर्ग ने आरोप लगाया कि जिस प्रकार की टिप्पणी आरएलपी के खिलाफ विनय मिश्रा ने ट्विटर पर की है, उससे पार्टी कार्यकर्ता आहत है। इन टिप्पणियों में जो आरोप लगाए गए हैं, वह पूरी तरह निराधार है। ऐसे में पुलिस आरोप लगाने वाले मिश्रा के खिलाफ कार्रवाई करें। जालूपुरा थाना पुलिस एसएचओ अनिल जैमन के अनुसार पत्र में दी गई शिकायत को दिखवाया जा रहा है। 



हनुमान बेनीवाल ने एक ट्वीट कर जल्द ही मिश्रा के खिलाफ उच्च न्यायालय में मानहानि का मामला दर्ज करवाने की बात कही है। बेनीवाल के मानहानि के केस दर्ज करवाने की बात पर विनय मिश्रा ने पलटवार किया है। मिश्रा ने ट्वीट कर बेनीवाल से सवाल किया कि ये मुकदमा आखिर किस पैसे से लड़ा जाएगा। वो विधायक बेचकर जो 40 करोड़ मिले थे, उससे या इसके लिए फिर से दोबारा विधायक बेचा जाएगा।

गुंडों बदमाश की पार्टी है आरएलपी

इसके साथ विनय मिश्रा ने कहा कि आरएलपी के कार्यकर्ता मुझे राजस्थान में नहीं घुसने देने की धमकी दे रहे हैंं। जो मुझे इस तरह धमका सकते हैं, वे आम लोगों से कैसे पेश आते होंगे। ये गुंडे बदमाशों की पार्टी हो गई है। 


क्या है मामला

विनय मिश्रा ने आरोप लगाया था कि हनुमान बेनीवाल ने अपनी पार्टी के तीन विधायकों को एक न्यूज चैनल के मालिक को राज्यसभा में अपने तीन विधायकों का वोट डलवाने के लिए 40 करोड़ में बेच दिया है। उन्होंने कहा कि तीन एमएलए = 30 करोड़, 10 करोड़ अपना खर्च, पार्टी ने अपने विधायकों को राज्यसभा चुनाव में बेच कर, कुल 40 करोड़ रुपये झटके में उठा लिए। ये भी नहीं सोचा को किसान भाईयों पर क्या गुजर रही होगी?’ सोचिए राजस्थान की जनता गलती से अगर 30 विधायक दे देती तो आज ये पूरा राजस्थान ही बेच देते। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.