Rajasthan: 11 हजार केवी के पोल से टकराते ही कार में लगी आग, एक स्कूली छात्र जिंदा जला, तीन को महिला ने बचाया  


ख़बर सुनें

राजस्थान के नागौर में एक दर्दनाक हादसे में स्कूली छात्र की जिंदा जलने से मौत हो गई। वहीं कार सवार अन्य तीन छात्रों को एक महिला ने बचा लिया। यह हादसा कुचामन के हीरानी गांव में हुआ। दरअसल, रविवार को हीरानी गांव में एक कार में सवार स्कूली छात्रों ने 11 हजार केवी के ट्रांसफॉर्मर को टक्कर मार दी। हादसे के बाद ट्रांसफार्मर कार पर और उसमें आग लग गई। कार में फंसे छात्रों के चिल्लाने की आवाज सुनकर पहुंची एक महिला ने बांस से कार का शीशा तोड़कर उनके बाहर उन्हें बाहर निकाला, लेकिन  एक छात्र कार में ही जिंदा जल गया।

पुलिस ने बताया कि कार में चार स्कूली छात्र सवार थे। जिनमें से ड्राइवर समेत तीन को बाहर निकाल लिया गया, लेकिन चौथा उसी में फंस गया। जब तक कार में लगी आग पर काबू पाया गया वह बुरी तरह जल गया था। हादसे के बाद कार से बाहर निकले तीन छात्र मौके से फरार हो गए। मौके पर पहुंची पुलिस ने जिंदा जले छात्र सुरेश को कुचामन जिला अस्पताल पहुंचाया। इसके बाद फरार हुए तीनों छात्रों की तलाश शुरू की गई। इस दौरान एक घायल छात्र हीरानी गांव की लखजी का बास ढाणी का निकला। 

19 साल के घायल छात्र पिंटू दादरवाल ने पुलिस को बताया, रविवार दोपहर को उसके दोस्त सुरेश, मनीष और एक अन्य उसकी ढाणी में आए थे। इसके बाद तीनों दोस्त और ड्राइवर कार से घूमने के लिए निकले। हीरानी गांव से निकलते ही सड़क पर एक पत्थर पड़े होने से उनकी कार बेकाबू हो गई और ट्रांसफॉर्मर के पोल से टकरा गई। ट्रांसफॉर्मर के कार पर गिरते ही उसमें आग लग गई।

पुलिस ने बताया कि आग में फंसे युवकों को देख स्थानीय महिला संतोष देवी पत्नी कानाराम मेघवाल मौके पर पहुंची। उन्होंने हिम्मत दिखाते हुए बांस से कार के शीशे तोड़े और 3 लोगों को बाहर निकाला। जिनमें पिंटू दादरवाल, मनीष कुमावत और कार चला रहा ड्राइवर शामिल था। वहीं सुरेश कुमावत की जिंदा जलने से मौत हो गई। कार चालक के बारे में पुलिस जानकारी जुटा रही है। 

विस्तार

राजस्थान के नागौर में एक दर्दनाक हादसे में स्कूली छात्र की जिंदा जलने से मौत हो गई। वहीं कार सवार अन्य तीन छात्रों को एक महिला ने बचा लिया। यह हादसा कुचामन के हीरानी गांव में हुआ। दरअसल, रविवार को हीरानी गांव में एक कार में सवार स्कूली छात्रों ने 11 हजार केवी के ट्रांसफॉर्मर को टक्कर मार दी। हादसे के बाद ट्रांसफार्मर कार पर और उसमें आग लग गई। कार में फंसे छात्रों के चिल्लाने की आवाज सुनकर पहुंची एक महिला ने बांस से कार का शीशा तोड़कर उनके बाहर उन्हें बाहर निकाला, लेकिन  एक छात्र कार में ही जिंदा जल गया।

पुलिस ने बताया कि कार में चार स्कूली छात्र सवार थे। जिनमें से ड्राइवर समेत तीन को बाहर निकाल लिया गया, लेकिन चौथा उसी में फंस गया। जब तक कार में लगी आग पर काबू पाया गया वह बुरी तरह जल गया था। हादसे के बाद कार से बाहर निकले तीन छात्र मौके से फरार हो गए। मौके पर पहुंची पुलिस ने जिंदा जले छात्र सुरेश को कुचामन जिला अस्पताल पहुंचाया। इसके बाद फरार हुए तीनों छात्रों की तलाश शुरू की गई। इस दौरान एक घायल छात्र हीरानी गांव की लखजी का बास ढाणी का निकला। 

19 साल के घायल छात्र पिंटू दादरवाल ने पुलिस को बताया, रविवार दोपहर को उसके दोस्त सुरेश, मनीष और एक अन्य उसकी ढाणी में आए थे। इसके बाद तीनों दोस्त और ड्राइवर कार से घूमने के लिए निकले। हीरानी गांव से निकलते ही सड़क पर एक पत्थर पड़े होने से उनकी कार बेकाबू हो गई और ट्रांसफॉर्मर के पोल से टकरा गई। ट्रांसफॉर्मर के कार पर गिरते ही उसमें आग लग गई।

पुलिस ने बताया कि आग में फंसे युवकों को देख स्थानीय महिला संतोष देवी पत्नी कानाराम मेघवाल मौके पर पहुंची। उन्होंने हिम्मत दिखाते हुए बांस से कार के शीशे तोड़े और 3 लोगों को बाहर निकाला। जिनमें पिंटू दादरवाल, मनीष कुमावत और कार चला रहा ड्राइवर शामिल था। वहीं सुरेश कुमावत की जिंदा जलने से मौत हो गई। कार चालक के बारे में पुलिस जानकारी जुटा रही है। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.