RS चुनाव: सुभाष चंद्रा के 'क्रॉस वोटिंग' वाले बयान पर टीएस सिंह देव का का जवाब, कांग्रेस ऑब्जर्वर ने कहा- हमारे पास 128 MLA


राजस्थान में भाजपा समर्थिक निर्दलीय उम्मीदवार सुभाष चंद्रा के बयान पर राजस्थान कांग्रेस के ऑब्जर्वर टीएस सिंह देव ने पलटवार किया है। टीएस सिंह देव ने कहा कि कोई भी प्रत्याशी चीजों को अपने नजरिए से देखता है। इसलिए उन्हें ऐसी उम्मीदें हैं। निर्दलीय के साथ-साथ कांग्रेस के पास 128 विधायक हैं। कांग्रेस उम्मीदवारों के जीतने की पूरी संभावना है। कांग्रेस ने पवन बंसल और टीएस सिंह देव को राजस्थान राज्यसभा चुनाव के लिए पर्यवेक्षक बनाया है। तय कार्यक्रम के अनुसार टीएस सिंह देव का आज उदयपुर पहुंचे का कार्यक्रम है। उल्लेखनीय है कि  राजस्थान राज्यसभा चुनाव में भाजपा समर्थिक निर्दलीय उम्मीदवार  सुभाष चंद्रा ने दावा किया कि आठ विधायकों की क्रॉस वोटिंग के समर्थन से वे राज्यसभा चुनाव में जीत दर्ज करेंगे।  इसके बाद उनके दावे पर कांग्रेस के नेता लगातार भाजपा पर हमला बोल रहे हैं। राजस्थान में 10 जून को राज्यसभा के लिए मतदान होना है। लेकिन कांग्रेस और भाजपा के नेताओं के बीच जुबानी जंग जारी है।

सुभाष चंद्रा ने किया क्राॅस वोटिंग का दावा

उल्लेखनीय है कि हाल ही में भाजपा समर्थित निर्दलीय प्रत्याशी सुभाष चंद्रा ने दावा किया था कि कांग्रेस के 8 विधायक क्राॅस वोटिंग करेंगे। विधानसभा में मौजूदा ​संख्या बल के हिसाब से BJP एक सीट पर जीत रही है। दूसरी सीट के लिए उसे 11 वोट चाहिए। भाजपा ने घनश्याम तिवाड़ी को राज्यसभा उम्मीदवार बनाया है। सुभाष चंद्रा भी मैदान में है। भाजपा के 71 विधायक हैं। एक सीट जीतने के लिए 41 विधायकों के वोट चाहिए। दो उम्मीदवारों के लिए 82 वोट चाहिए। भाजपा समर्थक दूसरे उम्मीदवार को जीतने के लिए 11 वोट कम पड़ रहे हैं। अगर हनुमान बेनीवाल की पार्टी आरएलपी के 3 विधायकों का सपोर्ट मिलने से कुल संख्या 74 हो जाती है। फिर दूसरे उम्मीदवार के लिए 8 वोटों की कमी रहती है। कांग्रेसी खेमे में सेंध लगाकर आठ वोट का प्रबंध करने पर ही भाजपा समर्थक दूसरा उम्मीदवार जीत सकता है। कांग्रेस के रणनीतिकार कांग्रेस के 108, 13 निर्दलीय, एक आरएलडी, दो सीपीएम और दो बीटीपी विधायकों को मिलाकर 126 विधायकों के समर्थन का दावा कर रहे हैं। इसलिए मुकाबला बहुत रोचक है। कांग्रेसी खेमे से भाजपा कुछ निर्दलीयों और नाराज कांग्रेस विधायकों में सेंध लगाने के प्रयास में है।

संबंधित खबरें

आंगनबाड़ी में खाना खाकर कई आदिवासी बच्चे हुए बेहोश, अस्पताल में भर्ती

महिला को घर में बंदी बनाकर कई लोगों ने पीटा, वीडियो वायरल; पुलिस ने 2 आरोपियों को किया गिरफ्तार

महिला को घर में बंदी बनाकर कई लोगों ने पीटा, वीडियो वायरल

RS चुनाव: गहलोत सरकार पर फोन टैपिंग के आरोप, कटारिया बोले- सीएम करा रहे हैं  भाजपा विधायकों के फोन टैप; बताई ये वजह

RS चुनाव: भाजपा ने लगाया गहलोत सरकार पर फोन टैपिंग के आरोप

'70 सालों में हमारे नेताओं ने दुनिया में जो सम्मान कमाया, उसको खत्म कर रही है भाजपा', सीएम अशोक गहलोत का मोदी सरकार पर हमला

हमने 70 सालों में देश का सम्मान बनाया, खत्म कर रही BJP: गहलोत

बीजेपी उठाना चाहती है सियासी लाभ 

राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस 4 में 3 सीट जीतने के लेकर आश्वस्त है। कांग्रेस को तीसरी सीट के लिए निर्दलीय विधायकों की जरूरत पड़ेगी। भाजपा की एक सीट पक्की है, जबकि दूसरी सीट के लिए निर्दलीय विधायकों का समर्थन चाहिए। सभी 13 निर्दलीय विधायक गहलोत सरकार को समर्थन दे रहे हैं। निर्दलीय विधायकों के दम पर बीजेपी सियासी लाभ उठाना चाहती है। बीजेपी नेताओं को उम्मीद है कि गहलोत कैबिनेट में जगह नहीं मिलने से नाराज चल रहे निर्दलीय विधायकों का समर्थन मिल सकता है। राजस्थान विधानसभा में संख्या बल कांग्रेस के पक्ष में है। कांग्रेस के पास 108 विधायक, भाजपा के पास 71, निर्दलीय 13, आरएलपी 3, बीटीपी 2, माकपा 2 और आरएलडी के पास एक विधायक है। संभावना है कि यदि उलटफेर नहीं हुआ तो मौजूगा संख्या बल के हिसाब से कांग्रेस 4 में 3 राज्यसभा की सीट आसानी से जीत जाएगी।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.