Udaipur Murder: अजमेर दरगाह के दीवान बोले- गरीब पर क्रूर हमला इस्लाम में दंडनीय पाप, तालिबानी मानसिकता बर्दाश्त नहीं   


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, अजमेर
Published by: रवींद्र भजनी
Updated Wed, 29 Jun 2022 01:11 PM IST

ख़बर सुनें

उदयपुर में नुपुर शर्मा समर्थक की दिनदहाड़े हत्या पर अजमेर की ख्वाजा गरीब नवाज की दरगाह के दीवान का बड़ा बयान आया है। उन्होंने कहा कि गरीब व्यक्ति पर क्रूर हमला इस्लाम में दंडनीय पाप है।  
भाजपा की पूर्व राष्ट्रीय प्रवक्ता नूपुर शर्मा के समर्थन में डाली गई पोस्ट को लेकर उदयपुर में कन्हैयालाल टेलर की गला काटकर हत्या के मामले में अजमेर दरगाह के दीवान सैयद जैनुअल अली आबेदीन का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि गरीब पर क्रूर हमला इस्लाम में दंडनीय पाप है। भारतीय मुसलमान कभी भी तालिबानी मानसिकता को बर्दाश्त नहीं करेंगे। 

उदयपुर की घटना को लेकर पत्रकारों से बातचीत में अजमेर दरगाह के दीवान ने कहा कि भारत के मुसलमान हमारी मातृभूमि में कभी भी तालिबानीकरण की मानसिकता को सामने नहीं आने देंगे । कोई भी धर्म मानवता के खिलाफ हिंसा को बढ़ावा नहीं देता है। विशेष रूप से, इस्लाम धर्म में, सभी शिक्षाएं शांति के स्रोत के रूप में कार्य करती हैं। इंटरनेट पर सामने आए वीभत्स वीडियो में कुछ गैर-नैतिक दिमागों ने एक गरीब आदमी पर क्रूर हमला किया, जिसे इस्लामी दुनिया में दंडनीय पाप के रूप में स्वीकार किया जाता है। इस्लाम शांति के लिए खड़ा है और इस्लाम का सच्चा अनुयायी कभी भी इस अनैतिक सर्कस का हिस्सा नहीं होगा। कथित लोग कुछ कट्टरपंथी समूहों का हिस्सा थे जो हिंसा के रास्ते से ही समाधान ढूंढते हैं। मैं इस कृत्य को दृढ़ता से हतोत्साहित करता हूं और सरकार से उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का अनुरोध करता हूं। भारत के मुसलमान हमारी मातृभूमि में कभी भी तालिबानीकरण की मानसिकता को सामने नहीं आने देंगे। हम इन आतंकवादी दिमाग वाले लोगों के खिलाफ लड़ाई में सरकार के साथ खड़े हैं जो जानबूझकर हमारे देश में अशांति पैदा करना चाहते हैं।

ऑल इंडिया सूफी सज्जादानशीन काउंसिल के चेयरमैन व दरगाह दीवान के पुत्र सैयद नसीरुद्दीन चिश्ती ने भी उदयपुर की घटना की कड़े शब्दों में निंदा की। उन्होंने कहा कि हम हिदुस्तानी हैं। हिंदुस्तान में अमन और मोहब्बत के साथ रहते रहेंगे। इस तरह की तालिबानी सोच रखने वालों के जो इरादे हैं, उनमें हम उन्हें कामयाब नही होने देंगे । उन्होंने कहा कि यह वक्त धैर्य व शांति बनाए रखने का है, कानून अपना काम करेगा। नसीरुद्दीन ने कहा कि हम तमाम हिंदुस्तानियों की यह जिम्मेदारी बनती है कि इस तरह की तालिबानी सोच को हम हिंदुस्तान में पनपने ना दें। जिस तरह की यह तालिबानी हरकत की है इसकी वह कड़े शब्दों में निंदा करते हैं ।
 

विस्तार

उदयपुर में नुपुर शर्मा समर्थक की दिनदहाड़े हत्या पर अजमेर की ख्वाजा गरीब नवाज की दरगाह के दीवान का बड़ा बयान आया है। उन्होंने कहा कि गरीब व्यक्ति पर क्रूर हमला इस्लाम में दंडनीय पाप है।  

भाजपा की पूर्व राष्ट्रीय प्रवक्ता नूपुर शर्मा के समर्थन में डाली गई पोस्ट को लेकर उदयपुर में कन्हैयालाल टेलर की गला काटकर हत्या के मामले में अजमेर दरगाह के दीवान सैयद जैनुअल अली आबेदीन का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि गरीब पर क्रूर हमला इस्लाम में दंडनीय पाप है। भारतीय मुसलमान कभी भी तालिबानी मानसिकता को बर्दाश्त नहीं करेंगे। 

उदयपुर की घटना को लेकर पत्रकारों से बातचीत में अजमेर दरगाह के दीवान ने कहा कि भारत के मुसलमान हमारी मातृभूमि में कभी भी तालिबानीकरण की मानसिकता को सामने नहीं आने देंगे । कोई भी धर्म मानवता के खिलाफ हिंसा को बढ़ावा नहीं देता है। विशेष रूप से, इस्लाम धर्म में, सभी शिक्षाएं शांति के स्रोत के रूप में कार्य करती हैं। इंटरनेट पर सामने आए वीभत्स वीडियो में कुछ गैर-नैतिक दिमागों ने एक गरीब आदमी पर क्रूर हमला किया, जिसे इस्लामी दुनिया में दंडनीय पाप के रूप में स्वीकार किया जाता है। इस्लाम शांति के लिए खड़ा है और इस्लाम का सच्चा अनुयायी कभी भी इस अनैतिक सर्कस का हिस्सा नहीं होगा। कथित लोग कुछ कट्टरपंथी समूहों का हिस्सा थे जो हिंसा के रास्ते से ही समाधान ढूंढते हैं। मैं इस कृत्य को दृढ़ता से हतोत्साहित करता हूं और सरकार से उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का अनुरोध करता हूं। भारत के मुसलमान हमारी मातृभूमि में कभी भी तालिबानीकरण की मानसिकता को सामने नहीं आने देंगे। हम इन आतंकवादी दिमाग वाले लोगों के खिलाफ लड़ाई में सरकार के साथ खड़े हैं जो जानबूझकर हमारे देश में अशांति पैदा करना चाहते हैं।

ऑल इंडिया सूफी सज्जादानशीन काउंसिल के चेयरमैन व दरगाह दीवान के पुत्र सैयद नसीरुद्दीन चिश्ती ने भी उदयपुर की घटना की कड़े शब्दों में निंदा की। उन्होंने कहा कि हम हिदुस्तानी हैं। हिंदुस्तान में अमन और मोहब्बत के साथ रहते रहेंगे। इस तरह की तालिबानी सोच रखने वालों के जो इरादे हैं, उनमें हम उन्हें कामयाब नही होने देंगे । उन्होंने कहा कि यह वक्त धैर्य व शांति बनाए रखने का है, कानून अपना काम करेगा। नसीरुद्दीन ने कहा कि हम तमाम हिंदुस्तानियों की यह जिम्मेदारी बनती है कि इस तरह की तालिबानी सोच को हम हिंदुस्तान में पनपने ना दें। जिस तरह की यह तालिबानी हरकत की है इसकी वह कड़े शब्दों में निंदा करते हैं ।

 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.