राजस्थान में पकड़े गए तीन पाक जासूस, आईएसआई को भेजते थे सूचनाएं; जानिए किस तरह जासूसी का रैकेट चलाते थे


राजस्थान में तीन पाक जासूस खुफिया एजेंसी के हत्थे चढ़ गए है। पकड़े गए तीनों जासूस पड़ोसी देश पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई को सामरिक सूचनाएं भेजते थे। एडीजी इंटेलीजेंस उमेश मिश्रा ने यह जानकारी दी। तीनों जासूस चूरू, गंगानगर और हनुमानगढ़ के रहने वाले हैं। एडीजी मिश्रा ने बताया कि हनुमानगढ़ निवासी अब्दुल सत्तार नियमित रूप से पाकिस्तान की यात्रा भी कर रहा है। इंटेलीजेंस ने हाल ही में तीनों जिलों के कुल 23 संदिग्ध व्यक्तियों से पूछताछ की। इस दौरान पता चला है कि संवेदनशील सूचनाएं उपलब्ध कराने की एवज में पाकिस्तानी हैंडलर से मोटी धनराशि मिलती थी। फिलहाल इंटेलीजेंस पूरे मामले की जांच कर रही है। जांच में नए तथ्यों का खुलासा हो सकता है।

कुल ;23 संदिग्ध व्यक्तियों से की पूछताछ 

महानिदेशक पुलिस (इन्टेलीजेंस) ने बताया कि 25 से 28 जून 2022 तक जिला श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़ एवं चूरू में ऑपरेशन सरहद चलाया गया. इस ऑपरेशन के तहत राज्य विशेष शाखा जयपुर की विशेष टीम एवं सीआईडी श्रीगंगानगर की ओर से जिला श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़ व चूरू के कुल 23 संदिग्ध व्यक्तियों से संयुक्त पूछताछ की गई। 

हनीट्रेप में फंसा, भेजी सूचनाएं

खुफिया एजेंसी के अधिकारियों के अनुसार सूरतगढ़ चूरू निवासी नितिन यादव छावनी क्षेत्र में फल, सब्जी आदि की सप्लाई का कार्य करता है। इसका प्रतिबन्धित क्षेत्रों में निरन्तर आना-जाना रहता है तथा पूछताछ में में यादव ने पाकिस्तानी महिला एजेंट के हनीट्रैप में फंस कर सामरिक महत्व की सूचनाएं साझा किया जाना व धनराशि प्राप्त किए जाने की बात स्वीकार की है। फोटो व वीडियो किए साझा: रामसिंह निवासी बाड़मेर जो वर्तमान में रतनगढ़ स्थित विकास ट्रेडर्स नाम की एक फैक्ट्री में कार्य कर रहा है, जो निरन्तर पाकिस्तानी खुफिया या एजेन्सी के सम्पर्क में था. पूछताछ में अन्तरराष्ट्रीय सीमा पर स्थित बॉर्डर आउट पोस्ट एवं सीमावर्ती क्षेत्र की सामरिक महत्व की जानकारी फोटो, वीडियो आदि पाकिस्तानी खुफिया ऐजेंसी से साझा कर धनराशि प्राप्त किए जाने की बात स्वीकार की है। 

पाकिस्तानी हैंडलर से मिल रही थी मोटी धनराशि 

महानिदेशक पुलिस (इन्टेलीजेंस) ने बताया कि 25 से 28 जून 2022 तक जिला श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़ एवं चूरू में ऑपरेशन सरहद चलाया गया।  इस ऑपरेशन के तहत राज्य विशेष शाखा जयपुर की विशेष टीम एवं सीआईडी श्रीगंगानगर की ओर से जिला श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़ व चूरू के कुल 23 संदिग्ध व्यक्तियों से संयुक्त पूछताछ की गई। पूछताछ के दौरान पाया गया कि इनमें से तीन व्यक्ति अब्दुल सत्तार निवासी हनुमानगढ़, नितिन यादव निवासी श्रीगंगानगर और रामसिंह निवासी बाड़मेर जो कि हाल में रतनगढ़, चूरू में रह रहा है, पाकिस्तानी खुफिया ऐजेन्सी के साथ सोशल मीडिया के माध्यम से सम्पर्क में था। ये तीनों पाकिस्तानी खुफिया ऐजेन्सियों को सामरिक महत्व की संवेदनशील सूचनाएं उपलब्ध करवा रहे थे। इस काम के बदले पाकिस्तानी हैण्डलर से वे धनराशि भी प्राप्त कर रहे थे। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.