राजस्थान में लंपी स्किन बीमारी से 330 से अधिक गायों की मौत, केंद्र सरकार के विशेषज्ञों की टीम स्थिति का आंकलन करेगी


राजस्थान में तेजी से फैल रही संक्रामक बीमारी लंपी स्किन गौवंश के लिए जानलेवा हो गई है। केंद्रीय मंत्री संजीव बाल्यान ने मामले को संज्ञान में लेते हुए मंगलवार को विशेषज्ञों एवं अधिकारियों की एक टीम राजस्थान भेजने के निर्देश दिए है। दरअसल, आज नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने ट्वीट कर केंद्रीय पशुपालन राज्य मंत्री संजीव बाल्यान से टीम भेजने का अनुरोध किया था।  सांसद बेनीवाल के ट्वीट के बाद केंद्रीय पशुपालन मंत्री संजीव बाल्यान ने ट्वीट कर कहा कि मंगलवार को विशेषज्ञों एवं अधिकारियों की टीम राजस्थान पहुंच कर स्थिति का आंकलन करेगी। इस बीमारी से पशुओं और किसान भाइयों को नुकसान ना हो इसका समाधान करेगी।

330 से अधिक गायों की हो चुकी है मौत 

उल्लेखनीय है कि नागौर समेत अन्य जिलों में  विशेषकर गौशालाओं में इस रोग का अटैक सबसे अधिक देखने को मिल रहा है। एक जगह बड़ी संख्या में मौजूद गौवंश तेजी से संक्रमित हो रहे हैं। राजस्थान में लंपी स्किन के मामले करीब दस दिन पहले सामने आए थे। इसके बाद यह रोग राजस्थान के कई जिलों के गौवंश में फैल गया है। इसका सबसे अधिक असर जालोर जिले में है। यहां सांचौर के पथमेड़ा गोदाम आनंद वन की 6 गौशालाओं में खतरनाक लंपी वायरस फैल गया है। यहां पिछले 10 दिनों में लंपी स्किन बीमारी से 330 गायों की मौत हो चुकी है, जबकि 1440 गायों में संक्रमण फैला हुआ है। वहीं, पड़ोसी राज्य गुजरात बीते कुछ दिन में 1000 से ज्यादा गौवंश की मौत हुई है।

सांसद बेनीवाल ने बाल्यान को किया था ट्वीट

नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने आज  केंद्रीय पशुपालन और डेयरी राज्य मंत्री डॉक्टर संजीव बाल्यान को भी ट्वीट करके केंद्र के स्तर से भी एक विशेष टीम राजस्थान के नागौर सहित अन्य जिलों में भेजने की मांग की। सांसद ने कहा की केंद्र की टीम राज्य के पशुपालन विभाग के साथ समन्वय स्थापित करके कार्य करे ताकि इस गंभीर बीमारी से समय पर निपटा जा सके। वहीं शनिवार ने सांसद ने गौशाला संचालकों व पशुपालकों से मुलाकात के बाद नागौर जिला कलक्टर से  दूरभाष पर वार्ता करके उन्हे निर्देशित किया है की पशु चिकित्सको, पशुधन सहायकों के दल को तत्काल प्रभावी रूप से इस बीमारी के नियंत्रण हेतु कार्य करने में लगाया जाये और सरकारी स्तर से ऐसी टीमों को हर संभव संसाधन उपलब्ध करवाएं जाएं।

 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.