Rajasthan: छात्रसंघ चुनाव से रोक हटी, CM गहलोत ने दिए चुनाव कराने के निर्देश, दो साल से अटके थे छात्रसंघ चुनाव


राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने काॅलेज और विश्वविद्यालयों में छात्र संघ चुनाव कराने की हरी झंडी प्रदान कर दी है। सीएम गहलोत ने ट्वीट कर लिखा-आज के विद्यार्थी ही देश का भविष्य है। विद्यार्थी संगठनों की मांग को देखते हुए एवं विद्यार्थियों में लोकतांत्रिक प्रक्रिया समझ बढ़ाने के लिए विश्वविद्यालयों औऱ महाविद्यलायों में चुनाव कराने के लिए विभाग को निर्देश दिए गए है। सभी विद्यार्थी संगठन संबंधित काॅलेज एवं विश्वविद्यालय की गाइडलाइंस का पालना करते हुए उत्साह से चुनाव में भाग लें। मेरी शुभकामनाएं आप सभी के साथ है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया समेत विभिन्न छात्रसंगठना काॅलेजों में चुनाव कराने की मांग कर रहे थे। इनका कहना था कि जब पंचायत चुनाव हो सकते हैं तो फिर छात्रसंघ चुनाव कराने में क्या  दिक्कत है। राज्य में कोरोना के केस कम होने के बाद सीएम गहलोत ने शिक्षा विभाग को छात्रसंघ चुनाव कराने की अनुमति प्रदान कर दी है। 

छात्रसंघ चुनाव अगस्त-सितंबर में कराए जाने की संभावना 

उल्लेखनीय है कि राजस्थान में विश्वविद्यालयों के एकेडमिक कैलेंडर के अनुसार ताे छात्रसंघ चुनाव अगस्त-सितंबर में कराए जाएंगे।राज्य सरकार की हरी झंडी मिलने के बाद ही रास्ता खुल गया है। काेराेना के कारण प्रदेश में दाे साल से चुनाव नहीं हाे सके थे। प्रदेशभर के छात्र व संगठन चुनाव कराए जाने काे लेकर मांग कर रहे थे। छात्र संगठनों का तर्क है कि जब पंचायत – निकाय के चुनाव करवाए जा सकते हैं छात्रसंघ के चुनाव क्याें नहीं हाे सकते।

कोरोना की वजह से अटके थे चुनाव

काेराेना शुरू हाेने के बाद जहां कक्षाएं और कैंपस ही छात्रों के लिए बंद हाे गए, वहां छात्रसंघ चुनावों काे भी अनुमति नहीं मिली। इसके बाद राज्यपाल द्वारा गठित टास्क फाेर्स ने भी छात्रसंघ चुनाव नहीं कराने का सुझाव दिया। इसके बाद दूसरे साल भी चुनाव नही हाे सके। जयपुर, जाेधपुर सहित अन्य विश्वविद्यालयों में लाखाें छात्र चुनावों से जुड़ते हैं। राजस्थान यूनिवर्सिटी में ही 28 हजार वाेटर हैं।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.