Rajasthan: स्कूल में मच्छर काटते हैं, इस कारण कर दी बच्चों की छुट्टी, वायरल हो रहा प्रधानाचार्य का यह पत्र


ख़बर सुनें

राजस्थान के झालावाड़ जिले के एक स्कूल के प्रधानाचार्य का एक पत्र सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसके कहा गया है कि स्कूल में मच्छर काटते हैं इसलिए बच्चों की छुट्टी है। अब इसे लेकर सोशल मीडिया पर प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था और स्कूलों के हालातों को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं।   

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मामला खानपुर के महात्मा गांधी अंग्रेजी माध्यम का है। स्कूल के कार्यवाहक प्रधानाचार्य नरेश कुमार ने यह पत्र ब्लॉक शिक्षा अधिकारी को लिखा है। जिसके बाद से यह सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।  

स्कूल के कार्यवाहक प्रधानाचार्य नरेश कुमार ने पत्र में लिखा कि विद्यालय के कक्षा 10 और कक्षा 6 के कमरों में प्रतिदिन पानी भरने और मच्छर होने के कारण छात्रों ने कक्षा में बैठने से मना कर दिया है। जिसकी वजह से इन दोनों कक्षा के छात्रों का अवकाश कर दिया गया है। 

दरअसल, राज्य की गहलोत सरकार ने दो साल पहले कस्बे में महात्मा गांधी अंग्रेजी माध्यम स्कूल को स्वीकृति प्रदान की थी। भवन नहीं होने के कारण अस्पताल के सामुदियाक भवन में बच्चों को पढ़ाया गया। पिछले साल भवन बनने के बाद से यहां शिक्षण कार्य शुरू किया गया था। भवन का निर्माण बेहतर तरीके से नहीं होने के कारण यहां रोशनी भी नहीं है। साथ बरसात के समय में पानी भरने के कारण अब मच्छर भी बढ़ने लगे हैं।  

विस्तार

राजस्थान के झालावाड़ जिले के एक स्कूल के प्रधानाचार्य का एक पत्र सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसके कहा गया है कि स्कूल में मच्छर काटते हैं इसलिए बच्चों की छुट्टी है। अब इसे लेकर सोशल मीडिया पर प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था और स्कूलों के हालातों को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं।   

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार मामला खानपुर के महात्मा गांधी अंग्रेजी माध्यम का है। स्कूल के कार्यवाहक प्रधानाचार्य नरेश कुमार ने यह पत्र ब्लॉक शिक्षा अधिकारी को लिखा है। जिसके बाद से यह सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।  

स्कूल के कार्यवाहक प्रधानाचार्य नरेश कुमार ने पत्र में लिखा कि विद्यालय के कक्षा 10 और कक्षा 6 के कमरों में प्रतिदिन पानी भरने और मच्छर होने के कारण छात्रों ने कक्षा में बैठने से मना कर दिया है। जिसकी वजह से इन दोनों कक्षा के छात्रों का अवकाश कर दिया गया है। 

दरअसल, राज्य की गहलोत सरकार ने दो साल पहले कस्बे में महात्मा गांधी अंग्रेजी माध्यम स्कूल को स्वीकृति प्रदान की थी। भवन नहीं होने के कारण अस्पताल के सामुदियाक भवन में बच्चों को पढ़ाया गया। पिछले साल भवन बनने के बाद से यहां शिक्षण कार्य शुरू किया गया था। भवन का निर्माण बेहतर तरीके से नहीं होने के कारण यहां रोशनी भी नहीं है। साथ बरसात के समय में पानी भरने के कारण अब मच्छर भी बढ़ने लगे हैं।  



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.