Rajathan: उदयपुर हत्याकांड का विरोध करने पर बजरंग दल कार्यकर्ता को मिली जान से मारने की धमकी, सुरक्षा मुहैया


ख़बर सुनें

उदयपुर हत्याकांड का विरोध करने पर चूरू के बजरंग दल कार्यकर्ता को जान से मारने की धमकी दी गई। जिसके बाद पुलिस प्रशासन अलर्ट हो गया। चूरू के राजगढ़ तहसील के गांव सरदारपुरा निवासी और बजरंग दल के कार्यकर्ता प्रवीण सरदारपुरा को पुलिस ने सुरक्षाकर्मी उपलब्ध करवाया है।

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार सरदारपुरा गांव निवासी प्रवीण कुमार की रिपोर्ट पर पुलिस ने मामला दर्ज किया है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रवीण सरदारपुरा ने बताया कि उदयपुर हत्याकांड के विरोध में एक जुलाई को विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल ने शहर बंद का आह्वान किया था। बाजार बंद को लेकर एक व्यक्ति ने बजरंग दल कार्यकर्ता को जान से मारने की धमकी दी। फोन पर धमकी देने वाले व्यक्ति ने अपने आपको संपत नेहरा गैंग का आदमी कालू बताया।

कॉल करने वाले ने कहा कि तुमने राजू के साथ क्यों झगड़ा किया था, मैं गोली मार दूंगा। तू कौन है बाजार बंद करवाने वाला तेरे को गोली मारूंगा। जिसके बाद प्रवीण सरदारपुरा ने  पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई। वहीं मामला दर्ज होने पर पुलिस अधीक्षक के आदेश पर सरदारपुरा को पीएसओ उपलब्ध करवा दिया गया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है और जिस मोबाईल नंबर से फोन आए हैं, उससे ट्रेस किया जा रहा है। 

विस्तार

उदयपुर हत्याकांड का विरोध करने पर चूरू के बजरंग दल कार्यकर्ता को जान से मारने की धमकी दी गई। जिसके बाद पुलिस प्रशासन अलर्ट हो गया। चूरू के राजगढ़ तहसील के गांव सरदारपुरा निवासी और बजरंग दल के कार्यकर्ता प्रवीण सरदारपुरा को पुलिस ने सुरक्षाकर्मी उपलब्ध करवाया है।

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार सरदारपुरा गांव निवासी प्रवीण कुमार की रिपोर्ट पर पुलिस ने मामला दर्ज किया है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रवीण सरदारपुरा ने बताया कि उदयपुर हत्याकांड के विरोध में एक जुलाई को विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल ने शहर बंद का आह्वान किया था। बाजार बंद को लेकर एक व्यक्ति ने बजरंग दल कार्यकर्ता को जान से मारने की धमकी दी। फोन पर धमकी देने वाले व्यक्ति ने अपने आपको संपत नेहरा गैंग का आदमी कालू बताया।


कॉल करने वाले ने कहा कि तुमने राजू के साथ क्यों झगड़ा किया था, मैं गोली मार दूंगा। तू कौन है बाजार बंद करवाने वाला तेरे को गोली मारूंगा। जिसके बाद प्रवीण सरदारपुरा ने  पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई। वहीं मामला दर्ज होने पर पुलिस अधीक्षक के आदेश पर सरदारपुरा को पीएसओ उपलब्ध करवा दिया गया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है और जिस मोबाईल नंबर से फोन आए हैं, उससे ट्रेस किया जा रहा है। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.