Udaipur Murder Case: कन्हैयालाल हत्याकांड में खुलासा, दो मौलानाओं ने आरोपी मौहम्मद गौस को भेजा था पाकिस्तान


ख़बर सुनें

उदयपुर हत्याकांड की एनआईए जांच कर रही हैं। जांच में बड़ा खुलासा हुआ है। हत्याकांड की साजिश में दो मौलाना और दो वकील भी शामिल थे, जिसके बाद उन्हें हिरासत में लिया गया है। हिरासत में लिए गए उदयपुर के दोनों मौलानाओं रियासत हुसैन और अब्दुल रज्जाक ने ही दावत-ए-इस्लामी की ट्रेनिंग के लिए कन्हैयालाल के हत्यारे मुहम्मद गौस को पाकिस्तान भेजा था। उसके साथ ही वसीम अत्तारी और अख्तार रजा भी पाकिस्तान गए थे।

कन्हैया की दुकान से 500 मीटर दूर की गई हत्या की साजिश
मीडिया रिपोर्टस के अनुसार कन्हैयालाल की दुकान से महज 500 मीटर दूर ही उसके हत्या की साजिश रची गई। मोहसिन की दुकान और पड़ोस में आसिफ के कमरे पर हत्या का प्लान बनाया गया। हत्याकांड से पहले आरोपियों की एक बैठक हुई थी। बैठक में रियाज, मोहम्मद गौस, आसिफ और मोहसिन शामिल हुए। बैठक में रियाज अत्तारी को कन्हैयालाल को मारने का काम सौंपा गया।

कन्हैया की दुकान वाली गली में आरोपियों का था आना-जाना
रियाज ने आसिफ और मोहसिन को इस हत्या की साजिश में शामिल किया था। दोनों हत्या से लेकर हथियार बनाने तक में शामिल रहे। कन्हैयालाल की दुकान जिस गली में थी, वहां रियाज और मौहम्मद गौस का आना जाना था। इसलिए वो उस गली से वाकिफ थे और उन्होंने बेखौफ हत्या को अंजाम दिया।
 

आरोपी कोर्ट में किए गए पेश
कन्हैयालाल हत्याकांड की हत्या करने वाले दोनों आरोपियों रियाज और मोहम्मद गौस को पुलिस ने पहले ही गिरफ्तार कर लिया था। उसके बाद राजस्थान एटीएस ने दो आरोपियों मोहसिन और आसिफ को गिरफ्तार किया था। चारों आरोपियों को शनिवार को एनआईए कोर्ट में पेश किया गया।

क्या है मामला

बता दें कि 28 जून को उदयपुर में दो लोगों ने कन्हैयालाल नाम के व्यक्ति की उसके दुकान में घुसकर बेरहमी से हत्या कर दी थी। आरोपियों ने हत्या से पहले और उसके बाद वीडियो भी बनाया था। वीडियो में उन्होंने प्रधानमंत्री तक को मारने की धमकी दी। हालांकि, वारदात के बाद ही पुलिस ने दोनों मुख्य आरोपियों को दबोच लिया। बाद में अन्य आरोपी गिरफ्तार किए गए। 

विस्तार

उदयपुर हत्याकांड की एनआईए जांच कर रही हैं। जांच में बड़ा खुलासा हुआ है। हत्याकांड की साजिश में दो मौलाना और दो वकील भी शामिल थे, जिसके बाद उन्हें हिरासत में लिया गया है। हिरासत में लिए गए उदयपुर के दोनों मौलानाओं रियासत हुसैन और अब्दुल रज्जाक ने ही दावत-ए-इस्लामी की ट्रेनिंग के लिए कन्हैयालाल के हत्यारे मुहम्मद गौस को पाकिस्तान भेजा था। उसके साथ ही वसीम अत्तारी और अख्तार रजा भी पाकिस्तान गए थे।


कन्हैया की दुकान से 500 मीटर दूर की गई हत्या की साजिश

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार कन्हैयालाल की दुकान से महज 500 मीटर दूर ही उसके हत्या की साजिश रची गई। मोहसिन की दुकान और पड़ोस में आसिफ के कमरे पर हत्या का प्लान बनाया गया। हत्याकांड से पहले आरोपियों की एक बैठक हुई थी। बैठक में रियाज, मोहम्मद गौस, आसिफ और मोहसिन शामिल हुए। बैठक में रियाज अत्तारी को कन्हैयालाल को मारने का काम सौंपा गया।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.