टीना डाबी नहीं कर पाई नीति आयोग के लक्ष्य हासिल, जैसलमेर जिले की रैंकिंग सबसे कम


Tina Dabi News: राजस्थान का जैसलमेर जिला नीति आयोग के लक्ष्य हासिल करने में फिसड्डी साबित हुआ है। जैसलमेर की जिला कलेक्टर और यूपीएससी टाॅपर आईएएस टीना डाबी के लिए रैंकिंग में सुधार लाना बड़ी चुनौती है। बतौर कलेक्टर टीना डाबी की पहली पोस्टिंग जैसलमेर जिले में हुई है। 20 सूत्री कार्यक्रम के क्रियान्वयन में जैसलमेर जिला सबसे निचले पायदान पर है। जैसलमेर के साथ ही  सिरोही जिला भी है 32 में स्थान पर है। पांच जिले अलवर, सीकर, चूरू, झुंझुनूं और टोंक टॉप में है। उल्लेखनीय है कि सचिन पायलट का निर्वाचन क्षेत्र टोंक टाॅप फाइल में शामिल है। उल्लेखनीय है कि राज्यों में विकास का पैमाना या मानक का अंदाजा लगाने के लिए बीस सूत्रीय कार्यक्रम में उसके प्रदर्शन को बड़ा आधार माना जाता है। नीति आयोग ने अप्रैल 2021 से मार्च 2022 तक राज्य सरकारों को लक्ष्य दिए थे और उसके अनुसार पूरे वर्ष को चार तिमाही में बांटकर जिलों को उनके प्रदर्शन के आधार पर रैंकिंग जारी की गई है। 

रैंकिंग ए,बी,सी,डी इन चार श्रेणियों में बांटकर की गई

जानाकरों के अनुसार जिलों की रैंकिंग ए,बी,सी,डी इन चार श्रेणियों में बांटकर की गई है। इसके तहत 36 में से 32 अंक हासिल करके अलवर,भीलवाड़ा,चूरू, झुंझुनूं और सीकर पहले पायदान पर आने में सफल हुए हैं। इन जिलों ने 88.89 प्रतिशत लक्ष्य हासिल किया है। भरतपुर 86.11 प्रतिशत लक्ष्य हासिल करके छठे स्थान पर आया है।  इसी तरह बारां और पाली को सातवां स्थान मिला है।अजमेर,दौसा,जोधपुर और टोंक 80 प्रतिशत से ज्यादा लक्ष्य हासिल करके  नौवें स्थान पर हैं। सीएम गहलोत का गृह जिला जोधपुर को नौवां स्थान मिला है। बाड़मेर,धौलपुर,डूंगरपुर और हनुमानगढ़ और कोटा को 77 प्रतिशत से ज्यादा लक्ष्य हासिल करने पर 13 वां स्थान मिला है। बीकानेर 75 प्रतिशत लक्ष्य हासिल करके 18 वां स्थान पाने में सफल रहा है। वहीं राजधानी जयपुर सहित जालोर,करौली,नागौर,राजसमंद ये पांच जिलों को 19 वां स्थान मिला है। इन लक्ष्यों को पाने में सिरोही सबसे फिसड्डी रहा है और 36 में से 22 अंकों और 61.11 प्रतिशत हासिल करके उसने जैसलमेर के साथ सबसे निचला 32 वां पायदान ही पाया है। 

चंद्रभान बोले- शत प्रतिशत हासिल हो लक्ष्य

बीस सूत्रीय कार्यक्रम के उपाध्यक्ष चंद्रभान का कहना है कि नीति आयोग ने जो निर्देश दिए है। उनके मुताबिक कई जिलों में जमीनी स्तर पर काम नहीं हो पाया है। चंद्रभान ने कहा कि नए वित्त वर्ष में जो टारगेट दिए गए है। उन्हें शत प्रतिशत हासिल करने के निर्देश दिए गए है। पिछली बार भी एक दर्जन जिलों की स्थिति बहुत खराब थी। सिर्फ 5 जिले की नीति आयोग के दिशा- निर्देशों के अनुरुप अच्छी स्थिति में रहे। सचिवालय में मीडिया कर्मियों से बात करते हुए डा.चंद्रभान ने कहा कि जो भी बिंदु दिए गए है, उनका शत प्रतिशत लक्ष्य हासिल किया जाए। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.