Girl Ran Away From Home Father Did Not Get Admission In 11th Class Kota – Rajasthan: पढ़ाई के लिए घर से भागी नाबालिग, पिता ने 11वीं में नहीं कराया दाखिला, जिद करने पर पीटा


ख़बर सुनें

घरवालों ने पढ़ाई करने से रोका तो राजस्थान के कोटा जिले में रहने वाली नाबालिग लड़की घर से भाग गई। सुबह करीब पांच बजे घर से भागकर वह थाने पहुंची। जहां मौजूद पुलिसकर्मियों को उसने बताया कि इस साल उसने दसवीं कक्षा पास की है और वह आगे पढ़ना चाहती है, लेकिन लड़की होने के कारण उसके घर वाले पढ़ाई से इनकार कर रहे हैं।   

दरअसल, यह मामला कोटा के इटावा इलाके का है। यहां रहने वाली 14 साल की नाबालिग सोमवार एक अगस्त सुबह 5:00 बजे के करीब घर से भाग गई। इसके बाद वह इटावा थाने पहुंची। कहा कि घरवाले आगे पढ़ने नहीं दे रहे हैं, इसलिए वह घर से भागकर आई है। पुलिस ने फोन कर नाबालिग के माता-पिता को थाने बुलाया तो बच्ची डर गई। उनके आने पर वह भागकर झाड़ियों में छिप गई। इसके बाद पुलिस ने उसके माता-पिता को वापस भेज दिया। 

इधर, रात करीब आठ बजे नाबालिग लड़की को कोटा लाकर बाल कल्याण समिति के सामने पेश किया गया। यहां हुई काउंसलिंग में उसने अपने माता-पिता के साथ रहने से इनकार कर दिया। साथ ही बताया कि उसने इस दसवीं की परीक्षा पास की है। वह 11वीं में दाखिला लेना चाहती है, लेकिन लड़की होने के कारण आगे पढ़ाई नहीं करवा रहे हैं। उनका कहना है कि लड़की आगे पढ़ाई करके क्या करेगी। उसने आगे पढ़ने की कई बार जिद की, लेकिन घर वाले नहीं माने। इस कारण उसने घर से भागने का फैसला किया।  

नाबालिग ने काउंसलिंग में बताया कि 31 जुलाई को पढ़ाई की बात करने पर घर में विवाद हो गया था। उसने आगे पढ़ाई करने की जिद की तो परिजनों ने उसकी पिटाई भी की थी। इसके कारण उसने घर से भागने का फैसला किया और अगले दिन सुबह करीब पांच बजे घर से भाग आई। नाबालिग ने अपने माता-पिता के साथ रहने से इनकार कर दिया है। उसका कहना है कि उसे पढ़ाई करके प्रशासनिक अधिकारी बनना है। ऐसे में बाल कल्याण समिति ने उसे बालिका गृह में भेज दिया है। बालिग होने तक वह यहां रहकर पढ़ाई कर सकती है। 

विस्तार

घरवालों ने पढ़ाई करने से रोका तो राजस्थान के कोटा जिले में रहने वाली नाबालिग लड़की घर से भाग गई। सुबह करीब पांच बजे घर से भागकर वह थाने पहुंची। जहां मौजूद पुलिसकर्मियों को उसने बताया कि इस साल उसने दसवीं कक्षा पास की है और वह आगे पढ़ना चाहती है, लेकिन लड़की होने के कारण उसके घर वाले पढ़ाई से इनकार कर रहे हैं।   

दरअसल, यह मामला कोटा के इटावा इलाके का है। यहां रहने वाली 14 साल की नाबालिग सोमवार एक अगस्त सुबह 5:00 बजे के करीब घर से भाग गई। इसके बाद वह इटावा थाने पहुंची। कहा कि घरवाले आगे पढ़ने नहीं दे रहे हैं, इसलिए वह घर से भागकर आई है। पुलिस ने फोन कर नाबालिग के माता-पिता को थाने बुलाया तो बच्ची डर गई। उनके आने पर वह भागकर झाड़ियों में छिप गई। इसके बाद पुलिस ने उसके माता-पिता को वापस भेज दिया। 

इधर, रात करीब आठ बजे नाबालिग लड़की को कोटा लाकर बाल कल्याण समिति के सामने पेश किया गया। यहां हुई काउंसलिंग में उसने अपने माता-पिता के साथ रहने से इनकार कर दिया। साथ ही बताया कि उसने इस दसवीं की परीक्षा पास की है। वह 11वीं में दाखिला लेना चाहती है, लेकिन लड़की होने के कारण आगे पढ़ाई नहीं करवा रहे हैं। उनका कहना है कि लड़की आगे पढ़ाई करके क्या करेगी। उसने आगे पढ़ने की कई बार जिद की, लेकिन घर वाले नहीं माने। इस कारण उसने घर से भागने का फैसला किया।  

नाबालिग ने काउंसलिंग में बताया कि 31 जुलाई को पढ़ाई की बात करने पर घर में विवाद हो गया था। उसने आगे पढ़ाई करने की जिद की तो परिजनों ने उसकी पिटाई भी की थी। इसके कारण उसने घर से भागने का फैसला किया और अगले दिन सुबह करीब पांच बजे घर से भाग आई। नाबालिग ने अपने माता-पिता के साथ रहने से इनकार कर दिया है। उसका कहना है कि उसे पढ़ाई करके प्रशासनिक अधिकारी बनना है। ऐसे में बाल कल्याण समिति ने उसे बालिका गृह में भेज दिया है। बालिग होने तक वह यहां रहकर पढ़ाई कर सकती है। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.