Rajasthan: कांग्रेस MLA जोगिंदर सिंह अवाना पर मानहानि का दावा, खनन कारोबारी ने लगाए ये आरोप


राजस्थान मे बसपा से कांग्रेस में शामिल हुए विधायक जोगिंदर अवाना पर एक खनन कारोबारी ने 5 करोड़ रुपये की मानहानि किया है। मान हानि का केस जयपुर के एडीजे मेट्रो संख्या 3 में फाइल किया है, जिस पर कोर्ट ने विधायक जोगिन्दर अवाना को 16 अगस्त को न्यायालय में तलब किया है। विधायक अवाना से पूछा गया है कि आपने किस आधार पर पीड़ित को भ्रष्ट और बेईमान बताया और उस पर कई प्रकार की टिप्पणी कर उसको मानसिक रूप से और सामाजिक रूप से क्षति पहुंचाई?। खनन कारोबारी दौलत सिंह ने विधायक पर मानहानि का केस किया है। जोगिंदर अवाना ने अपने ऊपर लगे आरोपों को खारिज करते हुए कहा है कि वह खनन कारोबारी को नहीं जानते हैं। वहीं विधायक ने कहा कि उन्हें मानहानि के दावे को लेकर कोई नोटिस नहीं मिला है और ऐसा कोई मामला उनके संज्ञान में नहीं है।

विधायक पर छवि खराब करने का आरोप 

जानकारी मिली है कि खनन कारोबारी दौलत सिंह 1999 से 2019 तक राजस्थान पुलिस में कॉन्स्टेबल पद पर रहे और इसके बाद पुलिस सेवा छोड़कर वह खनन कारोबार में शामिल हुए. दौलत की पत्नी और पिता भी खनन के काम से जुड़े रहे हैं। कारोबारी ने बताया कि उसने काफी सालों तक पुलिस में सेवा दी और अब खनन कारोबार कर रहा है लेकिन विधायक ने बेबुनियाद आरोप लगाकर मेरी छवि खराब की है। कारोबारी ने आरोप लगाया कि विधायक पहाड़पुर में ऑक्शन के जरिए खरीदी मेरी एक माइंस भी हड़पना चाहते हैं। कारोबारी के मुताबिक उसने कई मौकों पर विधायक की आर्थिक मदद की लेकिन जब पैसे देना बंद कर दिया तो वह धमकी दे रहे हैं।

डरा धमकाकर माइंस हड़पने का आरोप

खनन कारोबारी दौलत सिंह ने विधायक जोगिन्दर अवाना पर आरोप लगाया है कि उसने विधायक के कहने पर कई बार विधायक की आर्थिक मदद की है। उन्होंने जो काम बताए वो किये हैं लेकिन हाल ही में बंशी पहाड़पुर में उसने एक माइंस अपने भतीजे के नाम से ली है, जिसको वह हड़पना चाहते हैं। पीड़ित ने बताया है कि विधायक उसको डरा धमकाकर सब हड़पना चाहते हैं। खनन कारोबारी का आरोप है कि उसने विधायक अवाना को पैसा देना बंद कर दिया। जिसके बाद विधायक की ओर से उसे धमकी मिलना शुरू हो गई। कारोबारी ने कहा कि विधायक अवाना उसकी माइंस भी हड़पना चाहते हैं। उल्लेखनीय है कि विधायक अवाना भरतपुर जिले की नदबई से बसपा के टिकट पर चुनाव जीते थे, लेकिन बाद में कांग्रेस में शामिल हो गए। वर्ष 2020 में पायलट कैंप की बगावत के समय विधायक अवाना ने गहलोत कैंप का साथ दिया था। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.