Rajasthan: ' 3 फीट से बड़ी मूर्ति नहीं बनाए', बवाल हुआ तो कोटा पुलिस ने आदेश पलटा; जानें मामला


राजस्थान में कोटा पुलिस के मूर्ति की ऊंचाई से संबंधि आदेश पर बवाल मच गया। हिंदू संगठनों के विरोध पर प्रशासन चेता। बवाल बढ़ने पर आदेश पलट दिया। अब 12 फीट तक ऊंची मूर्ति की पूजा हो सकेगी। दरअसल, गणेश चतुर्थी और दुर्गा पूजा जैसे धार्मिक पर्वों को लेकर कोटा पुलिस की ओर से दिए गए आदेश पर शुक्रवार को बवाल हो गया था। आनन-फानन में प्रशासन को सरकारी आदेश वापस लेने पड़े। एक बार फिर कोटा प्रशासन ने आमजन की बीच छवि को गिरोने का काम किया। कोटा पुलिस ने शुक्रवार को आदेश जारी कर मूर्तिकारों से कहा कि वे तीन फीट से बड़ी मूर्ति नहीं बनाए। इस पर हिंदू संगठन लामबंद हो गए और चेतावनी दे डाली। मामला और तूल पकड़ता इससे पहले जिला प्रशासन ने अनंत चतुर्दशी शोभायात्रा की तैयारियों को लेकर हुई समीक्षा बैठक में नई गाइंडलाइंस जारी कर दी। इसके अनुसार इस बार शोभायात्रा में पीओपी से बनीं प्रतिमाएं पूरी तरह प्रतिबंधित रहेंगी। कोई भी प्रतिमा 12 फीट से अधिक ऊंचाई को नहीं होगी। 

कलेक्टर की अध्यक्षता में हुई बैठक में लिया निर्णय

कोटा के जवाहर नगर थाना पुलिस ने मूर्तिकारों को नोटिस जारी कर मिट्टी की प्रतिमा की ऊंचाई 3 फीट से अधिक नहीं रखने के निर्देश दिए थे। जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में हुई बैठक के निर्णय के बाद जवाहर नगर पुलिस ने मूर्तिकारों को दिए गए नोटिस पर सवाल उठता कि उन्होंने किस आधार पर मिट्टी की प्रतिमा की ऊंचाई 3 फीट से ज्यादा ऊंचाई नहीं रखने की बात लिखी थी। कलेक्टर की बैठक में एसपी केसर सिंह सहित सभी संबंधित अधिकारी मौजूद रहे। एसपी केसर सिंह ने सभी अखाड़ों के लिए लाइसेंस लेना अनिवार्य किया है। बिना लाइसेंस के अखाड़े पाए जाने पर कार्रवाई होगी। डीजे पर प्रतिबंधित रहेगा। 

हिंदू संगठनों ने बताया तुगलकी आदेश

पुलिस के आदेश से बजंरग दल और विश्व हिंदू परिषद ने कोटा पुलिस के आदेश को तुगलकी आदेश बताते हुए आंदोलन की चेतावनी दी। बजरंग दल सह प्रांत संयोजक योगेश रेनवाल ने कहा कि हिंदू समाज के त्योहार आते ही राजस्थान सरकार इस तरह के आदेश जारी कर भावनाओं को भड़काने का काम करती है। जबकि मुस्लिम समाज के मुहर्रम में इस तरह के आदेश जारी नहीं किए जाते हैं। इससे राज्य सरकार की तुष्टिकरण की नीति स्पष्ट होती है। 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.