MLAs and workers sitting on dharna by locking the Surajpura filter plant in Tonk

सूरजपुरा फिल्टर प्लांट पर धरना
– फोटो : Amar Ujala Digital

विस्तार

बीसलपुर जलदाय परियोजना कर्मचारी संघ सूरजपुरा के श्रमिकों को आमरण अनशन 23वें दिन मंगलवार को भी जारी रहा। श्रमिकों के समर्थन में विधायक कन्हैया लाल चौधरी के नेतृत्व में श्रमिकों व भाजपा कार्यकर्ताओं ने सुरजपुरा प्लांट को ताला लगाकर धरने पर बैठे हैं।

मंगलवार को बड़ी संख्या में श्रमिक, परिजन, भाजपा कार्यकर्ता और आंदोलन के समर्थन करने वाले सैकड़ों लोग महिलाएं व बच्चे उपखण्ड अधिकारी कार्यालय के बाहर पहुंचे, जहां लोगों ने श्रमिकों की मांगों को पूरा करने की मांग को लेकर जमकर नारेबाजी करते हुए विरोध प्रदर्शन किया।

यहां से विधायक कन्हैया लाल चौधरी के नेतृत्व में प्रशासन और जलदाय विभाग के खिलाफ नारेबाजी करते हुए सूरजपुरा प्लांट के लिए कूच किया। आंदोलनकारी श्रमिकों और भाजपा कार्यकर्ताओं ने करीब तीन किमी दूरी पैदल ही तय की। सूरजपुरा प्लांट के मुख्य गेट पर धरना व प्रदर्शन करते रहे। इस दौरान श्रमिकों तथा भाजपा के कार्यकर्ताओं ने श्रमिकों की मांगों को लेकर सूरजपुरा फिल्टर प्लांट के ताला लगाकर धरने पर बैठ गए।

विधायक को देख हरकत में आया प्रशासन

विधायक के धरने पर बैठने पर प्रशासन हरकत में आया और सूरजपुरा प्लांट के अधिशासी अभियंता से मौके पर वार्ता की। वार्ता में श्रमिकों की मांगों को पूरा करने की बात कही गई, लेकिन जवाब नहीं मिलने पर धरना जारी रहा। इस मौके पर विधायक के साथ सरपंच संघ अध्यक्ष जगराज सिंह, जिला उपाध्यक्ष रामचंद्र गुर्जर, जिला उपाध्यक्ष संतकुमार जैन, पार्षद प्रहलाद चांवला, संग्रामसिंह यादव, छात्र संघ अध्यक्ष हर्षित वैरागी, प्रधान जाट, अशोक कुमार झण्डा, करूणानिधी शर्मा, बाबूलाल गुर्जर, किसान नेता रतन खोखर, श्रमिक संघ से अध्यक्ष खेमचंद सैनी व सोकिना माली सहित बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता मौजूद रहे।

मौके पर एएसपी मालपुरा राकेश कुमार बैरवा, उपखण्ड अधिकारी नेहा मिश्रा, उपाधीक्षक मालपुरा सुशील मान, सीआई दातार सिंह सहित बड़ी संख्या में पुलिस जाप्ता तैनात रहा। इससे पूर्व सोमवार को देर शाम तक प्रशासन, जलदाय विभाग, परियोजना अधिकारियों तथा श्रमिकों के बीच वार्ता का दौर हुआ, लेकिन वार्ता बेनतीजा रही। श्रमिकों की मांगों पर संतोषप्रद सहमति नहीं बनने से वार्ता विफल रही। धरना जारी है।

क्या है मांगें

गौरतलब है कि बीसलपुर जलदाय परियोजना कर्मचारी संघ सूरजपुरा के श्रमिकों 24 अप्रैल को धरना प्रदर्शन करते हुए अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गए थे और आमरण अनशन शुरू कर दिया गया था। श्रमिकों की यह मांग है कि कर्मचारियों का शोषण बंद किया जाए, कंपनी द्वारा बेरोजगार कर्मचारियों को वापस काम पर लाया जाए सहित विभिन्न मांगें हैं।

आमरण अनशन के दौरान दो युवक ओम प्रकाश टेलर और सत्यनारायण दरोगा की तबीयत खराब होने पर टोंक रेफर किया गया, जहां दोनों आईसीयू में भर्ती है और इलाज चल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *