पूर्व चेयरमैन जगदीश बेनीवाल
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार


अलवर के राजीव गांधी सामान्य अस्पताल स्थित आईएमए हॉल में युवा कांग्रेस की ओर से वरिष्ठ कांग्रेस जन सम्मान समारोह आयोजित किया गया। वरिष्ठ कांग्रेस जन की मौजूदगी में हुए कार्यक्रम के दौरान वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं का दर्द झलक उठा।

पूर्व चेयरमैन जगदीश बेनीवाल ने मंच पर बैठे मंत्री टीकाराम जूली के सामने अपनी पीड़ा को रखा और  कहा कि साढ़े 4 साल में कांग्रेसी नेताओं के बेटे-बहू और पिता के तबादले नहीं हो सके। कहा जाता है कि जल्द ही उनके तबादले हो जाएंगे, डिजायर भेज दी जाती है, फिर पीछे से तबादला रुकवा दिया जाता है। कुछ पार्टी के नेता कह देते हैं कि पद नहीं मिल रहा, इसलिए बोलते हैं। फिर भी मैं कहता हूं कि नयों को जगह मिलनी चाहिए। लेकिन, यहां तो शाम को बीजेपी की शाखा में जाने वाले को सुबह कांग्रेस में पद दे दिया जाता है। ऐसे नेताओं को कांग्रेस की विचारधारा का पता नहीं है। उन्हें भले ही कांग्रेस में पद दे दिया हो लेकिन, वे बीजेपी को ही मानते हैं। इसलिए कहता हूं कि कांग्रेस की विचारधार रखने वालों को पद दिया जाए। आने वाला समय कांग्रेस का है। कांग्रेस सरकार गहलोत के कामकाज से रिपीट होगी।

मंत्री फोन करते हैं, लेकिन अधिकारी मानते नहीं 

वरिष्ठ नेता गोपालदास खटीक ने कहा कि उनकी रग-रग में कांग्रेस है। वे बीजेपी के नेताओं के परिवार से तो बेटे-बेटी के रिश्ते तक नहीं करते हैं। लेकिन, कांग्रेस के राज में पुराने नेताओं की कम सुनी गई है। कैबिनेट मंत्री टीकाराम जूली की तरफ इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि ये अधिकारियों को फोन करते हैं। यह सही है। लेकिन, फिर भी अधिकारी काम नहीं करते हैं। इनकी नहीं मानते हैं। ऐसे अफसरों को क्यों लगा रखा है? बतादें कि कार्यक्रम युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव दीनबंधु शर्मा की ओर से आयोजित किया गया। जिसमें कैबिनेट मंत्री टीकाराम जूली के अलावा वरिष्ठ नेता बुलाए गए थे। जिन्हें सम्मानित भी किया गया। इस दौरान कुछ नेताओं ने अपनी बात भी रखी।

एक दूसरे की टांग खिंचाई में सबका नुकसान-टीकाराम जूली

समारोह में कांग्रेस सरकार के सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री टीकाराम जूली ने नेताओं की बात का जवाब देते हुए कहा कि मुझे बदनामी के अलावा क्या मिला? हमनें तो मेहनत कर नगर निगम में बोर्ड बनवाया, ना मेरा कोई आदमी दफ्तरों में है। यदि है तो बताओ और हटवा दो। लेकिन, हमें बदनाम तो मत करो। कुछ काम होते हैं, कुछ नहीं होते हैं। एक दायरे में काम होते हैं। 500 काम हुए हैं, तो 5 काम नहीं हुए होंगे। शहर के हालात ऐसे हैं कि नेता आपस में एक दूसरे के पास बैठते नहीं हैं। इसी का फायदा अफसर उठा रहे हैं। इसी का फायदा बीजेपी ने उठाया। लोग हमें लड़ाकर फायदा उठाते हैं। सब लोगों की महत्वकांक्षाएं होती हैं। लेकिन, एक दूसरे की टांग खिचाई में सबका नुकसान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *