पीएम मोदी के दौरे को लेकर गहलोत ने फिर बोला हमला।
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार


राजस्थान विधानसभा चुनाव के माहौल के बीच उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ , पीएम नरेंद्र मोदी और केंद्रीय मंत्रियों के प्रदेश दौरे को लेकर सीएम अशोक गहलोत परेशान लग रहे हैं। गहलोत के बयानों से उनकी परेशानी साफ झलक रही है। वे लगातार उपराष्ट्रपति धनखड़, पीएम मोदी और केंद्रीय मंत्रियों के दौरे को लेकर सवाल उठा रहे हैं। इसके पीछे का कारण विधानसभा चुनाव को ही माना जा रहा है। क्योंकि, भाजपा कई बार ये साफ कर चुकी है कि 2023 का चुनाव पीएम मोदी के चेहरे पर ही लड़ा जाएगा। यानी ये मुकाबला पीएम मोदी और सीएम गहलोत के बीच होगा। राजनीति जानकारों को कहना है कि उपराष्ट्रपति और भाजपा के बड़े नेताओं के दौरे का असर चुनाव परिणाम पर पड़ सकता है, इसलिए गहलोत बार-बार ऐसे बयान दे रहे हैं। आइए… इस सियासी समीकरण को समझने की कोशिश करते हैं। 

सबसे पहले जानिए… पीएम मोदी और केंद्रीय मंत्रियों के दौरे को लेकर गहलोत ने क्या कहा?   

राजसमंद के एक कार्यक्रम में वीसी के जरिए जुड़े सीएम अशोक गहलोत ने पीएम मोदी के उस वादे पर पलटवार किया जिसमें उन्होंने प्रदेश में चल रहीं योजनाओं को बंद न करने की बात की थी। गहलोत ने कहा- आपके ऊपर कौन विश्वास कर सकता है कि आप जो कह रहे है वह होगा? पहले केंद्र में उन योजनाओं को लागू करो, तब हम मानेंगे। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने गोलमाल जवाब दिया है। आपने (पीएम) नहीं कहा कि मैं ओपीएस लागू करूंगा। 25 लाख का बीमा भी लागू रखूंगा। आप सिर्फ जनता को भ्रमित कर रहे हैं।  

गहलोत ने कहा- प्रधानमंत्री पद की एक गरिमा होती है। आप देश के पीएम है, लेकिन चुनाव जीतने के लिए कुछ भी बोल रहे हैं। आपने और आपके साथी केंद्रीय मंत्रियों ने राजस्थान पर धावा बोल रखा है। पूरा कुनबा राजस्थान में बैठा है। आपके नेता झूठे आरोप लगाते हैं। कुछ भी बोल रहे हैं। हमारी सरकार पर झूठे आरोप लगाना बंद करें। हमने लोगों को गुड गवर्नेंस दिया है। मुझे यकीन है कि जनता इस बार इनके झांसे में नहीं आएगी। गहलोत ने कहा- भाजपा वाले हिंदुओं की बात ऐसे करते हैं, जैसे हम तो हिंदू हैं ही नहीं। ये सिर्फ गाय और हिंदुओं के नाम पर राजनीति करते हैं।  

उपराष्ट्रपति धनखड़ के दौरे पर क्या कहा था?

उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ के दोरे को लेकर सीएम अशोक गहलोत ने एक के बाद एक बयान दिए थे। उन्होंने कहा था- मैं उपराष्ट्रपति का सम्मान करता हूं। कई दशकों से उनसे अच्छे रिश्ते भी हैं, लेकिन उन्होंने पूरा प्रदेश ही छान मारा। इन दौरों में उनसे मिलने वालों में अधिकतर भाजपा के नेता ही थे। अब बस राष्ट्रपति का आना बाकी है। भारत सरकार को सांविधानिक संस्थाओं के प्रमुखों पर दबाव नहीं बनाना चाहिए। इससे पहले गहलोत ने कहा था- भाजपा नेताओं के आने से दिक्कत नहीं है, लेकिन उपराष्ट्रपति और राष्ट्रपति को नहीं आना चाहिए, क्योंकि ये सांविधानिक पद हैं। इससे पहले गहलोत ने एक और बयान में कहा था कि जगदीप धनखड़ अगर, राष्ट्रपति बनेंगे तब भी हम उनका स्वागत करेंगे। लेकिन, अभी तो मेहरबानी करें। राजस्थान में चुनाव चल रहे हैं, ऐसे में वो बार-बार आएंगे तो लोग क्या समझेंगे?

अब तक 16 बार राजस्थान आए उपराष्ट्रपति धनखड़ 

जगदीप धनखड़ ने 11 अगस्त 2022 को 14वें उपराष्ट्रपति के तौर पर पदभार ग्रहण किया था। इसके बाद से 16 बार राजस्थान के दौरे पर आ चुके हैं। वे अब तक जयपुर, कोटा, उदयपुर, झुंझुनूं, नागौर, टोंक, सिरोही, बीकानेर, भरतपुर और चित्तौड़गढ़ में हुए कार्यक्रमों में हिस्सा लेने के लिए आ चुके हैं। इनमें से अधिकतर शैक्षणिक और धार्मिक कार्यक्रम थे। जगदीप धनखड़ मूल रूप से झुंझुनूं जिले के किठाना गांव के रहने वाले हैं। 1989 में झुंझुनूं लोकसभा सीट से जीतकर वे सांसद बन चुके हैं इसके बाद 1993 में किशनगढ़ से विधानसभा चुनाव भी जीत चुके हैं। ऐसे में प्रदेश में जगदीप धनखड़ का राजनीति जनाधार भी माना जाता है। प्रदेश में इस साल विधानसभा चुनाव है। उपराष्ट्रपति ने अब तक जिन जिलों का दौरे किया हैं, वहां 83 विधानसभा सीटे हैं। इसमें से कांग्रेस के पास अभी 51 और भाजपा के पास 21 सीटें हैं।

सालभर में पीएम मोदी के राजस्थान में दौरे

  • 30 सितंबर 2022 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अंबा माता के दर्शन करने आए थे। उस समय वह सिरोही जिले के आबू रोड भी गए थे।
  • 1 नवंबर 2022 को मोदी बांसवाड़ा के मानगढ़ धाम आए थे।
  • 8 जनवरी 2023 को मोदी भीलवाड़ा दौरे पर आए थे। गुर्जर समाज के आराध्य देव देवनारायण भगवान की जयंती समारोह में शामिल हुए थे।
  • 12 फरवरी 2023 को मोदी दौसा जिले में दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस वे के उद्घाटन के मौके पर आए थे।
  • 10 मई 2023 को पीएम मोदी ने नाथद्वारा और आबू रोड में बड़ी सभाओं को संबोधित किया था।
  • 31 मई 2023 को मोदी ने अजमेर में बीजेपी के महा जनसंपर्क अभियान की शुरुआत की थी।
  • 8 जुलाई को मोदी ने बीकानेर में अमृतसर-जामनगर एक्सप्रेस हाईवे का लोकार्पण और 24,300 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास किया था।
  • 27 जुलाई को पीएम मोदी ने सीकर में जनसभा को संबोधित किया था।
  • 25 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जयपुर में भाजपा की परिवर्तन संकल्प रैली को संबोधित किया।
  • 2 अक्टूबर को चित्तौड़गढ़ के सांवलिया सेठ में जनसभा को संबोधित किया था।

गहलोत क्यों हो रहे परेशान?

दरअसल, पीएम मोदी लगातार राजस्थान आ रहे हैं। कई केंद्रीय मंत्री भी प्रदेश में लगातार सक्रिय हैं। उधर, भाजपा ने केंद्रीय मंत्रियों को चुनावी मैदान में भी उतार दिया है। कहा जा रहा है कि भाजपा राजस्थान में भी कुद ऐसा ही प्रयोग कर सकती है। वहीं, दूसरी तरह यह चुनाव मोदी बनाम गहलोत हो गया है। पीएम मोदी लोकप्रिय नेता हैं और लोगों के बीच उनकी अच्छी साख और पकड़ है। उपराष्ट्रपति धनखड़ का भी राजस्थान आना जाना लगा हुआ है। ऐसे में कहा जा रहा है कि गहलोत इन दौरों को लेकर इसलिए परेशान है कि इसका असर चुनाव पर पड़ सकता है। हालांकि, वे बार-बार दावा करते हैं कि उनकी सरकार ने सबसे बेहतर काम किया है। इस बार राजस्थान की जनता इतिहास बनाएगी। गहलोत के इन सब दावों के बीच राजनीति जानकार कहते हैं कि कहीं न कहीं भाजपा की केंद्रीय टीम की सक्रियता और  उपराष्ट्रपति धनखड़ के दौरों ने उन्हें असहज कर दिया है। इसलिए वे बार-बार इस तरह की बयान दे रहे हैं।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *