पुलिस की गिरफ्त में आरोपी
– फोटो : Amar Ujala Digital

विस्तार


पुलिस का फर्जी आईडी दिखाकर राहगीरों को लूटने वाली गैंग के सरगना को अजमेर की कोतवाली थाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। यह गैंग नकली आईडी दिखाकर रास्ते में गुजर रहे बुजुर्गों को रोक कर उनसे सोने-चांदी के जेवरात उतरवा लेते थे। 

आरोपियों ने एक घंटे में चार वारदात की और बाइक से कोटा भाग निकले थे। ये हर वारदात के बाद अपनी शर्ट बदल लेते ताकि सीसीटीवी फुटेज में पहचान में ना आ सकें। मामला अजमेर के चार थानों में 20 सितम्बर को दर्ज हुआ था। आज जब ये दोबारा वारदात को अंजाम देने अजमेर पहुंचे तो पुलिस को भनक लग गई और इन्हें पकड़ लिया गया। 

अजमेर उत्तर सीओ भोपाल सिंह भाटी और कोतवाली थाना प्रभारी वीरेंद्र सिंह शेखावत ने बताया कि टीम को इनके हुलिए से मिलते जुलते संदिग्ध लोगों के कोटा में आने की सूचना मिली थी। शनिवार 11 बजे कार्रवाई करते हुए गांधी भवन के पास से किशोरपुरा कोटा सिटी निवासी हसन अली (27) पुत्र यासीन अली उर्फ सिया उर्फ कुर्बान अली को गिरफ्तार किया गया। आरोपी हसन अली ईरानी गैंग का सरगना है।

यह वारदात कबूलीं

साल 2019 में जिला बूंदी में इसी तरह की वारदात में जेल जा चुका है। 2020 में जमानत पर बाहर निकालने के बाद वह फिर से ठगी की वारदात में लिप्त हो गया। सरगना ने अपने अन्य साथियों के साथ राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश में वारदात को अंजाम दिया था। एक सितंबर 2023 को कोटा सिटी में तीन वारदात व 21 सितंबर 2023 को कोटा सिटी में दो वारदात को अंजाम दिया गया। पुलिस गिरफ्तार किए गए आरोपी से उसके अन्य साथियों के बारे में पूछताछ कर रही है। जिसमें कई महिलाएं भी शामिल हैं। 

इसे बनाते थे राहगीरों को शिकार

कोतवाली थाना प्रभारी वीरेंद्र सिंह शेखावत ने बताया कि ये सड़क से गुजर रहे राहगीरों और बाइक सवारों पर नजर रखते थे। जैसे ही इन्हें कोई शिकार नजर आता था तो ये उसके पीछे लग जाते। मौका देखकर उन्हें रोकते और पुलिस का फर्जी आईडी दिखाकर कहते कि आगे बड़ी वारदात हुई है, एसपी साहब के आदेश हैं। आप ये जेवर उतार कर इस लिफाफे में डाल दीजिए। जैसे ही विक्टिम उनकी बात मान कर जेवर उतारते ये लोग नजरें बचाकर लिफाफा बंद कर देते। आरोपी ने पूछताछ में बताया है कि एक आदमी शिकार को बातों में उलझता और दूसरा लिफाफा बंद करने के बहाने उसे बदल देता। इसके बाद ये तुरंत वहां से फरार हो जाते थे।

तीन राज्यों में वारदात को दिया अंजाम

सीओ भोपाल सिंह भाटी ने बताया कि आरोपी सरगना ने अपने अन्य साथियों के साथ राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश में वारदात को अंजाम दिया था। 1 सितंबर 2023 को कोटा सिटी में तीन वारदात और 21 सितंबर 2023 को कोटा सिटी में 2 वारदातों को अंजाम दिया गया। ये गैंग पूरे देश में सक्रिय है, जिसमें कई महिलाएं भी शामिल हैं।

यह थे टीम में शामिल

इन्हें पकड़ने के लिए टीम ने अभय कमांड सेंटर अजमेर, जयपुर व किशनगढ़ के सीसीटीवी फुटेज देखे। होटल व ढाबों पर लगे कैमरों को भी चेक किया गया। 500 से ज्यादा सीसीटीवी को चेक किए गए। पुलिस गिरफ्तार किए गए आरोपी से उसके अन्य साथियों और माल की बरामदगी को लेकर पूछताछ में जुटी है। टीम में विशेष योगदान प्रशिक्षु आरपीएस कार्तिकेय, थाना प्रभारी वीरेंद्र सिंह शेखावत, साइबर थाने के एएसआई भगवान सिंह, रणवीर सिंह और कोतवाली थाने के कॉन्स्टेबल मोतीराम का योगदान रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *